होम Lokpriya Shayar Aur Unki Shayari: Mazruh Sultanpuri (Hindi)

Lokpriya Shayar Aur Unki Shayari: Mazruh Sultanpuri (Hindi)

,
0 / 0
यह पुस्तक आपको कितनी अच्छी लगी?
फ़ाइल की गुणवत्ता क्या है?
पुस्तक की गुणवत्ता का मूल्यांकन करने के लिए यह पुस्तक डाउनलोड करें
डाउनलोड की गई फ़ाइलों की गुणवत्ता क्या है?
साल:
2014
प्रकाशन:
Rajpal & Sons
भाषा:
hindi
ISBN:
B01M73TSPZ
फ़ाइल:
PDF, 2.04 MB
डाउनलोड करें (pdf, 2.04 MB)

आप के लिए दिलचस्प हो सकता है Powered by Rec2Me

 
0 comments
 

To post a review, please sign in or sign up
आप पुस्तक समीक्षा लिख सकते हैं और अपना अनुभव साझा कर सकते हैं. पढ़ूी हुई पुस्तकों के बारे में आपकी राय जानने में अन्य पाठकों को दिलचस्पी होगी. भले ही आपको किताब पसंद हो या न हो, अगर आप इसके बारे में ईमानदारी से और विस्तार से बताएँगे, तो लोग अपने लिए नई रुचिकर पुस्तकें खोज पाएँगे.
1

Lava (Hindi)

साल:
2016
भाषा:
hindi
फ़ाइल:
PDF, 556 KB
0 / 0
2

Kundalini: An untold story (Hindi) (1) (Hindi Edition)

साल:
2017
भाषा:
hindi
फ़ाइल:
PDF, 2.51 MB
0 / 0
मज ह सुलतानपुरी

लोक य शायर और उनक शायरी

मज ह
सुलतानपुरी

संपादक: काश पं डत
सह-संपादक: सुरेश स लल

मज ह सुलतानपुरी क ज़ दगी और उनक बेहतरीन
ग़ज़ल, न म, शे’र और फ़ मी गीत

ISBN: 978-93-5064-199-6
सं करण: 2014 © राजपाल ए ड स ज़
MAJROOH SULTANPURI (Life-Sketch and Poetry)
Editor: Prakash Pandit, Associate Editor: Suresh Salil
राजपाल ए ड स ज़
1590, मदरसा रोड, क मीरी गेट- द ली-110006
फोनः 011-23869812, 23865483, फै सः 011-23867791
website: www.rajpalpublishing.com
e-mail: sales@rajpalpublishing.com

म
प रचय
ग़ज़ल
न म
बा रयाबी*
पछले पहर
क़ा फ़ले
शे’र और क़त्ए
फ मी गीत
गाये जा गीत मलन के
उठाये जा उनके सतम
जब नामे मुह बत ले के…
ग़म तो बना मेरे लए
हमारे बाद अब मह फल म
ग़म दये मु त कल
ये माना दल जसे ढूँ ढे
ख़ामोश है ज़माना
सीने म सुलगते ह अरमाँ
ये रात ये फ़ज़ाएँ
हमने जफ़ा न सीखी
पहले सौ बार इधर
हम कर कोई सूरत
रात ने या- या वाब दखाए
मोह बत से दे खा, ख़फ़ा हो गए
प थर के सनम
साथी न कोई मं ज़ल
हम जी लगे बन तु हारे
वो तीर दल पे चला
अब या मसाल ँ म
दद क ऐ रात गुज़र जा

तू कहे अगर जीवन भर म
ठं डी हवा काली घटा
जवानी के दामन को
दो-गाना
पग ठु मक चलत बल खाये
ऐ लो म हारी पया
कोई आया धड़कन कहती है
चली गोरी पी से मलन
झूम झूम के नाचो आज
क हयो रोय खयारे
मेरी लाडली री बनी
चंदा रे, चंदा रे!
न हा मोरा डोले मोरी अँगनैयाँ
हम ह राही यार के
बेकस क तबाही के
लकड़हार का कोरस
कह ताक़त के पंजे म

ज़बां हमारी न समझा यहां कोई ‘मज ह’
हर अजनबी क तरह अपने ही वतन म रहे

प रचय
वही ‘मज ह’, समझे सब जसे आवारा-ए-ज मत1
वही है एक शमए-सुख़ का2 परवाना बरस से
ब बई म यह 25 दस बर, 1958 क रात है। और यह उ के स
ग तशील शायर
सरदार जाफ़री का घर है। समस क रात मनाने शायर और अद ब आ रहे ह। ण-भर
के लए अफ़सोस होता है क माँ के आपरेशन के कारण कृ च दर यहां आने के बजाय
आज ही द ली चले गये। एक और ण के लए अफ़सोस होता है क कसी अ य त
आव यक काय के कारण राजे सह बेद और वाजा अहमद अ बास भी नह आ रहे।
ले कन कुछ ण बाद यह अफ़सोस खुशी म बदल जाता है जब डा टर मु कराज
आन द आ जाते ह। इ मत चुग़ताई और उनके प त शा हद लतीफ़ आ जाते ह। ‘नख़शब’
जाजवी और जां नसार ‘अ तर’ आ जाते ह। ‘सा हर’ लु धयानवी आ जाते ह। व ा म
‘आ दल’ बना प नी के और मज ह सुलतानपुरी प नी स हत आ जाते ह। ग प हो रही
ह। मज़ाक़ हो रहे ह। डा टर आन द ‘इ मत’ और शा हद लतीफ़ म;  झगड़ा कराने क
वफल को शश कर रहे ह। ‘इ मत’ ‘सा हर’ और ‘मज ह’ म झगड़ा कराने क वफल
को शश कर रही ह। यहां तक क हर कोई हर कसी के साथ झगड़ा कराने क वफल
को शश कर रहा है। हर को शश चूं क वफल जा रही है इस लए बला का शोर मच रहा है
और टे प- रकाडर पर इस ऐ तहा सक बैठक क हर आवाज़ रकाड हो रही है। एकाएक
‘मज ह’ क आवाज़ सब आवाज़ पर छा जाती है। फर धीरे-धीरे सब आवाज़ उसक
आवाज़ म वलीन हो जाती ह और सब-के-सब उसक ग़ज़ल पर सर धुनने लगते ह।
‘मज ह’ ग़ज़ल का शायर है और उसका कहना है क वह अपनी ग़ज़ल म इस बात
को सा बत कर दे ता है क मौजूदा ज़माने के मसाइल (सम या ) को शायराना प दे ने
के लए ग़ज़ल नामौज़ूं (अनुपयु ) नह है, ब क कुछ ऐसी मं ज़ल भी ह जहां सफ़
ग़ज़ल ही शायर का साथ दे सकती है। हालां क उ के एक समालोचक कलीम-उ ला क
नज़र म ग़ज़ल एक नीम-वहशी (अधस य) का - प है और कुछ वष पूव कुछ
ग तशील सा ह यकार ने भी इसे मरते ए साम ती समाज का अंग और केवल
आ मभाव (subjectiveness) का चम कार कहकर इसके उ मूलन क मांग क थी।
लगभग इसी कार क एक मांग स क ा त से पहले कुछ ा तकारी युवक ने
भी क थी। वे अतीत क सम त अ छ -बुरी पर परा को ढ़ और साम त-काल क
जूठन कहकर उ ह समा त कर डालने पर तुल गये थे और इस स ब ध म कोई

सै ा तक यु भी सुनने को तैयार न थे। अतएव जब वहां के महान लेखक तुगनेव ने
अपने उप यास म ऐसे संक णतावाद पा को तुत करना और उनका खेदजनक
प रणाम दखाना शु कया तो उन युवक ने उसे ढ़वाद , त यावाद , ब क
ा त- वरोधी तक कह डाला और मुतालबा कया क उसक सम त पु तक को
जलाकर राख कर दया जाए य क उनके अ ययन से ा तकारी युवक के भटकने
क स भावना है।
ा त से छछला लगाव रखने वाले भारतीय लेखक भी ग़ज़ल के त अपना रोष
कट करते ए इस ता वक स ांत को भूल गये क हर नई चीज़ पुरानी कोख से ज म
लेती है। भाषा तथा सा ह य और सं कृ त तथा स यता से लेकर शारी रक व
तक
कोई चीज़ शू य म आगे नह बढ़ती ब क इसे अपने पछले फ़ैशन का सहारा लेना पड़ता
है। और जहां तक आ मभाव का संबंध है, आ मभाव कसी चकने घड़े का नाम नह है
ब क आ मभाव भी पदाथ- वषयता का त ब ब होती है। अपने मन क नया म
रहना कसी पागल के लए तो स भव है ले कन कोई चेतन
बा प र थ तय से
भा वत ए बना नह रह सकता। इन जोशीले ले कन वमूढ़ सा ह यकार के बारे म,
जो पुरानेपन के इतने वरोधी थे, उ के एक समालोचक ने बलकुल ठ क लखा है क
“उ ह ने टब के गंदले पानी के साथ-साथ टब और ब चे को भी फक दे ने क ठान ली
थी।”
सौभा यवश उ के उन संक णतावाद सा ह यकार ने ब त शी अपनी भूल
वीकार कर ली और सा ह य, इ तहास और सामा जक प र थ तय के गहरे अ ययन
और नरी ण के बाद अब वे ब चे और टब को नह , केवल टब के गंदले पानी को फकने
और उसक जगह नमल और व छ पानी भरने के लए य नशील ह।
यह ठ क है क उ शायरी का एक वशेष प होने के कारण ग़ज़ल क कुछ अपनी
वशेष पर पराएं ह और वह साम त-काल क उपज है, ले कन इसका यह मतलब नह है
क ग़ज़ल क पर परा म कोई प रवतन नह आ या नह हो सकता। व , समाज
और मानव-जीवन क येक व तु क तरह ग़ज़ल क पर परा म भी बराबर प रवतन
होता रहा है और ‘मीर’, ‘सौदा’, ‘दद’, ‘मो मन’, ‘ग़ा लब’, ‘दाग़’ के कलाम के मशः
अ ययन से हम इस प रवतन या वकास क प-रेखा दे ख सकते ह। जागीरदारी के
पतन और इस कारण ग़ज़ल क अधोग त के बाद बीसव सद म जन शायर ने ग़ज़ल
क
ढ़गत पर परा म प रवतन लाने के सफल य न कये, उनम ‘हसरत’ मोहानी,
‘इक़बाल’, ‘ जगर’, ‘ फ़राक़’, ‘मजाज़’, ‘फ़ैज़’, और ‘ज बी’ के नाम सबसे ऊपर ह।
इस संग म ‘मज ह’ सुलतानपुरी ग़ज़ल के े म नवाग तुक है।
‘मज ह’ सुलतानपुरी ग़ज़ल के े म नवाग तुक अव य है ले कन अनाड़ी नह ।
उ ग़ज़ल के शयनागार म वह एक समट - समटाई लजीली हन क तरह नह ब क
एक नडर और बेबाक हे क तरह दा ख़ल आ है और कुछ ऐसे वा भमान के साथ
दा ख़ल आ है क शयनागार का मदमाता वातावरण चकाच ध काश म प रव तत हो
गया है।
इस स ब ध म ‘मज ह’ के क वता-सं ह ‘ग़ज़ल’ म ‘मज ह’ का प रचय कराते
ए सरदार जाफ़री ने बलकुल ठ क ही लखा है क:

“एक और ख़ुसू सयत ( वशेषता) जो ‘मज ह’ को आम ग़ज़ल-गो शायर से मु ताज़
( व श ) करती है, यह है क उसने समाजी और सयासी मौज़ूआत ( वषय ) को बड़ी
कामयाबी के साथ ग़ज़ल के पैराया (शैली) म ढाल लया है। आम तौर पर ग़ज़लगो शायर
समाजी और सयासी मौज़ूआत के बयान म फ के-सीठे हो जाते ह या उनका अ दाज़ेबयां (वणन-शैली) ऐसा हो जाता है क न म और ग़ज़ल का फ़क़ बाक़ नह रहता।
‘मज ह’ के यहां यह बात नह है।”
और इसी क वता-सं ह क तावना म वग य क़ाज़ी अ ल ग़ फ़ार लखते ह:
“ ह दो तान क नौजवान न ल के आ तशख़ाने (अ नकुंड) से जो चगा रयां नकल
रही ह, उनम एक ब त रौशन चगारी ‘मज ह’ सुलतानपुरी है, जसने तग़ जुल के
वजदान (अंतः ेरणा) म अपनी बेताब ह को उ रयां (न न) कया है। उसका शुमार
(गणना) उन तर क़ पसंद ( ग तशील शायर म होता है जो कम कहते ह और (शायद
इसी लए) ब त अ छा कहते ह। ग़ज़ल के मैदान म उसने वह सब कुछ कहा है जसके
लए बाज़ तर क़ पसंद शायर सफ़ न म का ही पैराया ज़ री और नागुज़ीर (अ नवाय)
समझते ह। सही तौर पर उसने ग़ज़ल के क़द म (पुराने) शीशे म (बोतल म) एक नई
शराब भर द है।”
ग़ज़ल के क़द म शीशे म नई शराब य ही नह भर गई। इसके लए ‘मज ह’ को
कड़ी तप या करनी पड़ी है। श ा के अभाव के बावजूद उसने राजनी तक बोध क
ा त और सामा जक वकास और ग त के नयम को समझने के लए घोर प र म
कया है, तब जा कर उसक शायरी म उस यथाथवाद क झलक आ पाई है जसके
बना कोई शायर बड़ा शायर नह कहला सकता। अतएव जब वह कहता है क:
बचा लया मुझे तूफ़ां क मौज ने वना
कनारे वाले सफ़ ना3 मेरा डु बो दे ते
या
मेरे काम आ ग आ ख़रश4 यही का वश5 यही ग दश
बढ़ इस क़दर मेरी मं ज़ल क क़दम के ख़ार6 नकल
गये
तो केवल इतना ही नह क ‘मज ह’ हम ग़ज़ल क ाचीन पर परा का उ रा धकारी
नज़र आता है ब क उसके यहां हम ऐ तहा सक सचाइय क भी बड़ी सु दर झलक
मलती है। ख़ज़ां, बहार, साक़ , मह फ़ल, शराब, पैमाना, गुल, गु ल तां, स याद इ या द
श द से, जो ाचीन ग़ज़ल के ‘पा ’ ह, ‘मज ह’ ने बड़ी कला-कौशलता से अपना
काम नकाला है। इन श द को पहनाया आ उसका नया अथ इस बात का अका
माण है क शायरी के अ य प क तरह ग़ज़ल भी एक लबास है जो वचार के शरीर
को ढांपता है और अपनी तराश-ख़राश और रंग- प के आधार पर कसी भी सरे
लबास से कम सु दर नह । ‘मज ह’ ने आव यकतानुसार इस लबास म कुछ नये श द
ारा और भी रंगीनी और खूबसूरती पैदा करने क को शश क है। अपनी इस को शश म
कह -कह तो वह ब त सफल रहा है। उदाहरण व प, पूंजीवाद के त अपनी घृणा

कट करते ए उसके सबसे बड़े ल ण ‘बक’ को वह इस कार अपने शे‘र म बांधता
है:
जब पर7 ताजे-ज़र8, पहलू म ज़दां9, बक छाती पर
उठे गा बेकफ़न कब ये जनाज़ा हम भी दे खगे
और ा त का वागत करते ए वह ज़मीन, हल, जौ के दाने, और कारख़ाने ऐसे श द
को, जो, न म म तो कसी तरह खप सकते ह ले कन, ग़ज़ल क नाजक कमर इनका
बोझ मु कल ही से उठा सकती है, बड़ी शान से य योग म लाता है:
अब ज़मीन गायेगी हल के साज़ पर न मे
वा दय म नाचगे हर तरफ़ तराने-से
अहले- दल उगायगे ख़ाक से महो-अंजुम10
अब गुहर11 सुबक12 होगा जौ के एक दाने से
मनचले बुनगे अब रंगो-बू के पैराहन13
अब संवर के नकलेगा न कारख़ाने से
ले कन कभी-कभी नये श द के योग क धुन म और राजनी त-स ब धी साम यक
आ दोलन क धारा म बहकर वह कला क
से असफल भी रहता है और उस
कोमल स ब ध को भुला दे ता है जो राजनी तक बोध और उसके कला मक वणन के
बीच होना चा हए। उसके ऐसे शे‘र दे खये:
अ न का झंडा इस धरती पर, कसने कहा लहराने न
पाये
ये भी कोई हटलर का है चेला, मार के साथी जाने न
पाये
इस ेणी के शे‘र य प उसके यहां आटे म नमक के बराबर ह फर भी मेरे तु छ
वचार म ‘मज ह’ को इस कार के वणन से पहलू बचाना चा हये, य क यह भी कुछ
उसी कार क संक णता है, जसने स के महान कलाकार तुगनेव को ा त वरोधी
ठहराया था और ा त-आ दोलन म योग दे ने क बजाय ा त को हा न प ंचाई थी।
आधु नक उ ग़ज़ल का यह ा तवाद शायर, जो अपने साधारण जीवन म बड़ा
सौ दय- ेमी है, कभी भ े व नह पहनता, कभी भ ा खाना नह खाता, भ े मकान म
नह रहता, भ पु तक नह रखता, भ बात नह करता और इसी लए ब त कम भ े
शे‘र कहता है, ज़ला आज़मगढ़ के एक क़ बे नज़ामाबाद म पैदा आ और हक म
बनते-बनते संयोग से शायर बन गया। उसक जीवनी उसक अपनी ज़बान से सु नये:
“म एक पु लस कां टे बल का बेटा ं, जो मुलाज़मत के दौरान आज़मगढ़ (यू.पी.) म
रहे और वह नज़ामाबाद म 1919 म मेरी पैदाइश ई और मने अपनी इ तदाई तालीम
(उ , फ़ारसी, अरबी) वह हा सल क । 1930 म म आज़मगढ़ से क़ बा टांडा, ज़ला

फ़ैज़ाबाद आया और वहां अरबी दस नज़ा मया क तकमील (पू त) करनी चाही ले कन
कर नह सका और इलाहाबाद यूनीव सट के अरबी इ तहान ‘मौलवी’, ‘आ लम’,
‘फ़ा जल’ क फ़ क क इस ज़ रये से कसी कूल म ट चरी मल सकेगी। ले कन
‘आ लम’ तक पढ़कर उसे भी छोड़ दया और त ब ( च क सा-शा ) क तकमील के
लए लखनऊ आया और यहां अरबी ज़बान म त ब क तकमील क । यह ज़माना 1938
का है। च द महीन तक मतब (औषधालय) कया ले कन चूं क सुलतानपुर म कुछ शे‘रओ-अदब क भी चचा थी इस लए मुझ म भी शे‘र कहने का शौक पैदा आ। 1941 म
‘ जगर’ मुरादाबाद ने मुझे मुशायरे म सुना और अपने साथ लेकर कई एक मुशायर म
गये। इस दौरान उ ह ने मुझे दो बात बता । उनम से एक यह थी क अगर कसी का कोई
अ छा शे‘र सुनो तो कभी नक़ल न करो ब क जो गुज़रे (आ मानुभव हो) वही कहो।
बाक़ायदा इ लाह (संशोधन) मने कसी से नह ली। ब कुल शु क दो ग़ज़ल पर
‘आसी’ साहब मर म से इ लाह ली थी। ले कन वे ग़ज़ल मेरे हा फ़ज़े (म त क) म
ब कुल नह ह। 1945 म एक मुशायरे के सल सले म ब बई आया और यह फ़ म के
गीत वग़ैरा लखने लगा और अब तक यह ं। 1947 से अंजुमने-तर क़ पसंदमुस फ़ न ( ग तशील लेखक संघ) सेवाब ता 14
ं और रोज़-ब-रोज़ (अगरचे फ़सत कम
मलती है) इसी को शश म ं क ग़ज़ल के पस मंज़र (पृ -भू म) म माक स म को
रखकर समाजी, सयासी और इ क़या शायरी कर सकूं। चुनांचे कुछ लोग कहते ह क म
अ छा शायर ं और कुछ लोग कहते ह क अ छा आदमी ं। तुम मुझे दोन ए तबार से
जानते हो, जो चाहो फ़ैसला कर लो।”
इस स बोधन का ‘तुम’ चूं क ‘म’ ं इस लए मेरा फ़ैसला यह है क ‘मज ह’ आदमी
भी ब त अ छा है और शायर भी ब त तभाशाली।
मज ह सुलतानपुरी ने पचास से यादा साल तक ह द फ म के लए गीत लखे।
यह काम इतने ल बे समय तक शायद कसी और ने कभी नह कया। आज़ाद मलने से
दो साल पहले वे एक मुशायरे म ह सा लेने ब बई गए थे और तब उस समय के मश र
फ म- नमाता कारदार ने उ ह अपनी नई फ म ‘शाहजहाँ’ के लए गीत लखने का
अवसर दया था। दरअ ल उनका चुनाव एक तयो गता के ारा कया गया था। इस
फ म के गीत स गायक सहगल ने गाए थे और बात क बात म गीत के साथ
गीतकार भी मश र हो गया। ये गीत थे-‘ग़म दए मु त कल’ और ‘जब दल ही टू ट गया’
जो आज भी ब त लोक य ह। इनके संगीतकार नौशाद साहब थे। मज ह के साथ
उनक दो ती खूब जमी।
जन फ म के लए आपने गीत लखे उनम से कुछ के नाम ह-सी.आई.डी., चलती
का नाम गाड़ी, नौ-दो यारह, पेइंग गे ट, काला पानी, तुम सा नह दे खा, दल दे के दे खो,
द ली का ठग इ या द।
प डत नेह क नी तय के खलाफ एक जोशीली क वता लखने के कारण
आपको सवा साल जेल म रहना पड़ा। इस अव ध म राजकपूर ने उनक बड़ी मदद क ।
1994 म उ ह फ म जगत के सव च स मान दादा साहब फालके पुर कार’ से
स मा नत कया गया। इससे पूव 1980 म उ ह ग़ा लब अवाड और 1992 म इक़बाल
अवाड ा त ए थे। वे जीवन के अंत तक फ म से जुड़े रहे। जून 2000 म उनका

दे हांत हो गया।

— काश पं डत

1. अंधेर म भटकने वाला 2. (सुख़) समाजवाद द पक का 3. नाव 4. आ ख़र 5. य न 6. कांटे 7. माथे पर 8.
पूंजी- पी ताज 9. जेलख़ाना 10. चाँद- सतारे 11. मोती 12. ह का (कम क़ मत का) 13. लबास 14. इससे पूव
‘मज ह’ ग तशील धारणा से सहमत नह था। अथात् वह सा ह य और कला के सामा जक उ े य का प पाती न
था। ले कन सरदार जाफ़री के कथनानुसार एक बार जब ‘मज ह’ अज ता और एलोरा दे खने गया तो अज ता म
गौतम बु क श ा, जीवन और उस काल के वातावरण के च ण ने ‘मज ह’ को त ध कर दया और उसी समय
से उसे व ास हो गया क सामा जक उ े य के बना महान कला ज म नह ले सकती। उसने कहा, “अज ता फ़न
(कला) का आलातरीन (महानतम्) नमूना है। फर भी ौपेगंडा है। वह जा वदां (अमर) इस लए है क उसने हे-अ
(युग क आ मा) को असीर (ब द ) कर लया है।” यही ख़याल बाद को इस शे‘र म इस तरह ढल गया:
नवा है जा वदां ‘मज ह’ जसम हे-सा त हो
कहा कसने मेरा न मा ज़माने के चलन तक है
बाद म अपनी ग तशील शायरी का उसे दं ड भी मला-पूरे एक वष का कारावास! ले कन एक बार जो कुलाह कज
ई15 फर:
सर पर हवा-ए-ज म16 चले सौ जतन के साथ
अपनी कुलाह कज है उसी बांकपन के साथ
15. टोपी टे ढ़

ई 16. अ याचार क हवा

ग़ज़ल

1
कोई आ तश-दर-सुब1ू शो‘ला-ब-जाम2 आ ही गया
आफ़ताब3 आ ही गया, माहे-तमाम4 आ ही गया
मोहत सब5! साक़ क च मे-नीम-वा6 को या क ँ
मैकदे का7 दर8 खुला ग दश म जाम आ ही गया
इक सतमगर तू क वजहे-सद ख़राबी9 तेरा दद
इक बलाकश10 म क तेरा दद काम आ ही गया
हम-क़फ़स11! स याद क 12 र मे-ज़बां-बंद 13 क ख़ैर
बेज़बान को भी अंदाज़े-कलाम14 आ ही गया
य क ंगा म कसी से तेरे ग़म क दा ताँ
और अगर ऐ दो त लब पर15 तेरा नाम आ ही गया
आ ख़रश16, ‘मज ह’ के बे-रंग रोज़ो-शब म वो
सुबहे- रज़ पर17 लये ज फ़ क शाम आ ही गया

1. शराब के मटके म आग लये 2. याले म शोले लये 3. सूरज 4. पूरा चाँद 5. रसा य 6. अध-खुली आँख 7.
शराबख़ाने का 8. दरवाज़ा 9. सैकड़ ख़रा बय का कारण 10. बेतहाशा पीने वाला 11. एक ही पजरे म साथ रहने
वाला साथी 12. शकारी क 13. ज़बान बंद रखने क री त 14. बोलने का ढं ग 15. ह ठ पर 16. अंततः 17. कपोल
के भात पर

2
मसरत को1 ये अहले-हवस2 न खो दे ते
जो हर ख़ुशी म तेरे ग़म को भी समो दे ते
कहां वो शब3 क तेरे गेसु के4 साये म
ख़याले-सुबह से हम आ त भगो दे ते
बहाने और भी होते जो ज़ दगी के लए
हम एक बार तेरी आरज़ू भी खो दे ते
बचा लया मुझे तूफ़ां क मौज ने5, वना
कनारे वाले सफ़ ना6 मेरा डु बो दे ते
जो दे खते मेरी नज़र पे बं दश के सतम7
तो ये नज़ारे मेरी बेबसी पे रो दे ते
कभी तो यूं भी उमड़ते सर के-ग़म8 ‘मज ह’
क मेरे ज़ मे-तम ा9 के दाग़ धो दे ते

1. खु शय को 2. लोलुप 3. रात 4. केश के 5. लहर ने 6. क ती 7. अ याचार 8. ग़म के आँसू 9. आकां ा का घाव

3
ये के- के से आंसू ये दबी-दबी सी आह
युँही कब तलक1 ख़ुदाया2 ग़मे- ज़ दगी नबाह
कह ज मत म3 घरकर है तलाशे-द ते-रहबर4
कह जगमगा उठ ह मेरे न शे-पा से5 राह
तेरे ख़ानमां-ख़राब का6 चमन कोई न सहरा7
ये जहां भी बैठ जाय, वह इनक बारगाह8
कभी जादा-ए-तलब से9 जो फरा ं दल- शक ता10
तेरी आरज़ू ने हंसकर वह डाल द ह बाह
मेरे हद म11 नह है ये नशाने-सुरबुलंद 12
ये रंगे ए अमामे13 ये झुक -झुक कुलाह14
1. तक 2. हे भगवान! 3. अंधेर म 4. पथ दशक के हाथ (सहारे) क तलाश 5. पद च से 6. बेघर का 7. म थल
8. शाही महल 9. ेम-माग से 10. भ न दय 11. युग म 12. उ चता या बड़ पन का च 13. पग ड़यां 14. टो पयां

4
नगाहे-साक़ -ए-नामेहरबाँ1 ये या जाने
क टू ट जाते ह ख़ुद दल के साथ पैमाने
मली जब उनसे नज़र बस रहा था एक जहाँ2
हट नगाह तो चार तरफ़ थे वीराने
हयात3, ल ज़शे-पैहम4 का नाम है साक़
लब से जाम लगा भी सकूं, ख़ुदा जाने
वो तक रहे थे, हम हँस के पी गये आंसू
वो सुन रहे थे, हम कह सके न अफ़साने5
तब सुम ने6 नखारा है कुछ तो साक़ के
कुछ अहले- दल के7 संवारे ए ह मैख़ाने
ये आग और नह , दल क आग है नादाँ
चराग़ हो क न हो, जल बुझगे परवाने
फ़रेबे-साक़ -ए मह फ़ल8 न पू छये ‘मज ह’
शराब एक है बदले ए ह पैमाने
1. अकृपालु साक़ क नज़र 2. जहान, संसार 3. जीवन 4. नरंतर लड़खड़ाहट 5. आ मकथाएं 6. मु कराहट ने 7.
दल वाल के 8. मह फ़ल के साक़ का धोखा

5
ख़ म शोरे-तूफ़ां था, र थी सयाही भी
दम के दम म अफ़साना थी मेरी तबाही भी
इ तफ़ात1 समझूं या बे ख़ी2 क ं इसको
रह गई ख़ लश3 बनकर उसक कम- नगाही4 भी
इस नज़र के उठने म, उस नज़र के झुकने म
न मा-ए-सहर5 भी है आहे-सुबह-गाही6 भी
याद कर वो दन जस दन तेरी स तगीरी7 पर
अ क8 भर के उ थी मेरी बेगुनाही भी
प ती-ए-ज़म से9 है रफ़ ते-फ़लक10 क़ायम
मेरी ख़ ता-हाली से11 तेरी कजकुलाही12 भी
शम भी, उजाला भी म ही अपनी मह फ़ल का
म ही अपनी मं ज़ल का राहबर13 भी राही भी
गुंबद से पलट है अपनी ही सदा14 ‘मज ह’
म जद म क मने जाके दाद- वाही15 भी
1. कृपा 2. वमुखता 3. तपन 4. अ प
5. भात गीत 6. सुबह क आह 7. स ती 8. आंसू 9. धरती के नीचेपन
से 10. आकाश का ऊंचापन 11. द र ता से 12. टे ढ़ टोपी (ताज, शाही ठाठ) 13. पथ- दशक 14. आवाज़ 15.
ाथना

6
मुझे सहल हो ग मं ज़ल, वो हवा के ख़ भी बदल गये
तेरा हाथ हाथ म आ गया क चराग़ राह म जल गये
वो लजाये मेरे सवाल पर क उठा सके न झुका के सर
उड़ी ज फ़ चेहरे पे इस तरह क शब के1 राज़2 मचल गये
वही बात जो न वो कह सके मेरे शे‘र-ओ-न मा म आ गई
वही लब3 न म ज ह छू सका क़दहे-शराब म4 ढल गये
तुझे च मे-म त5 पता भी है क शबाब6 गम -ए-ब म7 है
तुझे च मे-म त ख़बर भी है क सब आबगीने पघल गये
उ ह कब के रास भी आ चुके तेरी ब मे-नाज़ के हा दसे
अब उठे क तेरी नज़र फरे जो गरे थे गर के संभल गये
मेरे काम आ ग आ ख़रश8 यही का वश9 यही ग दश10
बढ़ इस क़दर मेरी मं ज़ल क क़दम के11 ख़ार12 नकल गये

1. रात के 2. भेद 3. ह ठ 4. शराब के याले म 5. म त आंख 6. यौवन 7. मह फ़ल क गम 8. अंततः 9. य न 10.
च कर 11. पांव के 12. कांटे

7
आहे-जांसोज़1 क मह मी-ए-तासीर2 न दे ख
हो ही जायेगी कोई जीने क त र3 न दे ख
हा दसे4 और भी गुज़रे तेरी उ फ़त के5 सवा
हां! मुझे दे ख मुझे, अब मेरी त वीर न दे ख
ये ज़रा र पे मं ज़ल, ये उजाला, ये सुकूं6
वाब को दे ख अभी वाब क ताबीर7 न दे ख
दे ख ज़दाँ से8 परे रंगे-चमन, जोशे-बहार
र स9 करना है तो फर पांव क ज़ंजीर न दे ख
कुछ भी ँ फर भी खे दल क सदा10 ं नासेह11
मेरी बात को समझ, त ख़ी-ए-तक़रीर12 न दे ख
वही ‘मज ह’ वही शायरे-आवारा- मज़ाज13
कौन उ ा है तेरी ब म से14 दलगीर15, न दे ख

1. जान को जला डालने वाली आह 2. भाव क वफलता 3. यु 4. घटनाय 5. ेम के 6. शा त 7. व -फल 8.
कारागार से 9. नृ य 10. आवाज़ 11. धम पदे शक 12. कटु वाता 13. आवारा वभाव का शायर 14. मह फ़ल से 15.
खत

8
लये बैठा है दल इक
मे-बेबाकाना1 बरस से
क इसक राह म ह काबा-ओ-बुतख़ाना बरस से
दले-सादा न समझा, मा सवा-ए-पाकदामानी2
नगाहे-यार कहती है कोई अफ़साना बरस से
गुरेज़ां3 तो नह तुझसे मगर तेरे सवा दल को
कई ग़म और भी ह ऐ ग़मे-जानाना4 बरस से
मुझे ये फ़ सब क यास अपनी यास है, साक़
तुझे ये ज़द क ख़ाली है मेरा पैमाना बरस से
हज़ार माहताब5 आए हज़ार आफ़ताब6 आये
मगर हमदम7 वही है ज मते-ग़मख़ाना8 बरस से
वही ‘मज ह’, समझे सब जसे आवारा-ए-ज मत9
वही है एक शमए-सुख़ का10 परवाना बरस से

1. उ ड संक प 2. प व ता के सवा 3. उदासीन 4. ेयसी ( ेम) के ग़म 5. चांद 6. सूरज 7. साथी 8. शोक-भरे घर
का अंधकार 9. अंधेर म भटकने वाला 10. सुख़ (समाजवाद ) द पक का

9
र- र मुझ से वो इस तरह ख़रामाँ है1
हर क़दम है न शे- दल2 हर नगह रगे-जां3 है
बन गई है म ती म दल क बात हंगामा
क़तरा थी जो साग़र म4 लब पे5 आके तूफ़ां है
हम तो पा-ए-जानां पर6 कर भी आये इक स दा7
सोचती रही नया कु है क ईमाँ है
मेरे श वा-ए-ग़म से8 आलमे-नदामत म9
उस लबे-तब सुम पर10 शम -सी फ़रोज़ां11 है
मु तज़र12 ह फर मेरे हा दसे ज़माने के
फर मेरा जुनूं13 तेरी ब म म ग़ज़ल- वां है14
फ़
या उ ह जब तू साथ है असीर के15
ऐ ग़मे-असीरी16 तू ख़ुद शक ते- ज़दां17 है
अपनी-अपनी ह मत है अपना-अपना दल ‘मज ह’
ज़ दगी भी अज़ा18 है, मौत भी फ़रावां19 है
1. धीमी चाल से चल रहे ह 2. दय का च 3. जीवन क नाड़ी 4. याले म 5. ह ठ पर 6. ेयसी के पैर पर 7.
णाम 8. ग़म (दे ने) क शकायत से 9. प ा ाप करते ए 10. मु कराते ह ट पर 11. काशमान 12. ती क 13.
उ माद 14. गीत गा रहा है 15. क़ै दय के 16. क़ैद का ग़म 17. कारागार का टू टना 18. स ती 19. चुर

10
डरा के मौज-ओ-तलातुम से1 हमनशीन को2
यही तो ह जो डु बोया कये सफ़ न को3
शराब हो ही गई है बक़ े -पैमाना4
ब- मे-तक5 नचोड़ा जो आ तीन को
जमाले-सुबह6 दया -ए-नौबहार7 दया
मेरी नगाह भी दे ता ख़ुदा हसीन को
हमारी राह म आये हज़ार मैख़ाने
भुला सके न मगर होश के क़रीन 8 को
कभी नज़र भी उठाई न सू-ए-बादा-ए-नाब9
कभी चढ़ा गये पघला के आबगीन को10
ए ह क़ा फ़ले ज मत क 11 वा दय म रवाँ
चराग़े-राह12 कये ख़ूंचकां13 जबीन को14
तुझे न माने कोई तुझको इससे या ‘मज ह’
चल अपनी राह, भटकने दे नु ाचीन को
1. तूफ़ान और लहर से 2. सा थय को 3. क तय को 4. याले के अनुसार 5. शराब छोड़ने के संक प से 6. सुबह
का स दय 7. नव-वस त का मुखड़ा 8. सुरी तय 9. शराब क ओर 10. पानी के बुलबुल को 11. अंधकार क 12.
माग का द पक 13. र ार 14. माथ को

11
जो समझाते भी आकर वाइज़े-बरहम1 तो या करते
हम इस नया के आगे उस जहाँ का2 ग़म तो या करते
हरम से3 मैकदे तक4 मं ज़ले-यक-उ 5 थी साक़
सहारा गर6 न दे ती ल ज़शे-पैहम7 तो या करते
जो म को मज़ाजे-गुल8 ता9 कर द वो ऐ वाइज़10
ज़म से र फ़ े -ज ते-आदम11 तो या करते
सवाल उनका जवाब उनका सुकूत12 उनका ख़ताब13 उनका
हम उनक अंजुमन म14 सर न करते ख़म15 तो या करते
जहां ‘मज ह’ दल के हौसले टू ट नगाह से
वहां करते भी मग-शौक़ का16 मातम17 तो या करते
1. ु धम पदे शक 2. जहान (लोक) का 3. म जद से 4. शराबख़ाने तक 5. आयु भर (चलकर प च
ँ ने) क मं ज़ल
6. अगर 7. नरंतर डगमगाहट 8. फूल क कृ त 9. दान 10. धम पदे शक 11. मनु य के वग क च ता 12. चु पी
13. स बोधन 14. मह फ़ल म 15. झुकाते 16. ेम क मृ यु का 17. शोक

12
अब अहले-दद1 ये जीने का एहतमाम2 कर
उसे भुला के ग़मे- ज़ दगी का नाम कर
फ़रेब खा के उन आंख का कब तलक ऐ दल
शराबे-ख़ाम3 पय, र से-नातमाम4 कर
ग़मे-हयात ने5 आवारा कर दया वना
थी आज़ू क तेरे दर पे6 सुबह-ओ-शाम कर
न दे ख दै रो-हरम7 सू-ए-रहरवाने-हयात8
ये क़ा फ़ले तो न जाने कहां क़याम कर9
ह इस कशाकशे-पैहम म10 ज़ दगी के मज़े
फर एक बार कोई स ी-ए-नातमाम11 कर
सखाय द ते-तलब को12 अदा-ए-बेबाक 13
पयामे ज़ेर-लबी को14 सला-ए- म15 कर
ग़लाम रह चुके तोड़ ये ब दे - सवाई16
ख़ुद अपने बाज-ए-मेहनत का17 एहतराम18 कर
ज़म को मल के संवार मसाले- ए- नगार19
ख़े- नगार क 20 ज़ौ से21 फ़रोग़े-बाम22 कर
फर उठ के गम कर कारोबारे-ज फ़ो-जुनूं23
फर अपने साथ उसे भी असीरे-दाम24 कर
मेरी नगाह म25 है अज़-मा को26 ‘मज ह’
वो सरज़म 27 क सतारे जसे सलाम कर

1. दद वाले (आ शक़) 2. बंध 3. क ची शराब 4. अधूरा नृ य 5. जीवन के ग़म ने 6. दरवाज़े पर 7. म दर, म जद
8. जीवन के प थक क ओर 9. ठहर 10. नर तर संघष म 11. अधूरा य न 12. मांगने वाले हाथ को 13.
बे झझक का ढं ग 14. ह ठ म दये ए संदेश को 15. सब के लए पुकार 16. बदनामी क ज़ंजीर 17. प र म करने
वाली बाँह का 18. आदर 19. सु दरी के चेहरे क तरह 20. सु दरी के चेहरे क 21. चमक से 22. छत क शोभा 23.
ेमो माद म ेयसी क ज फ़ से उलझना 24. जाल म क़ैद 25. नज़र म 26. मा को क धरती ( स) 27. धरती

13
तक़द र का शकवा बेमानी, जीना ही तुझे म ज़ूर नह
आप अपना मुक़ र1 बन न सके इतना तो कोई मजबूर नह
ये मह फ़ले-अहले- दल2 है यहां हम सब मैकश3 हम सब
साक़
तफ़रीक़4 कर इ सान म इस ब म5 का ये द तूर नह
ज त-ब- नगह6, तसनीम-ब-लब7, अंदाज़ उसके ऐ शैख़8 न
पूछ
म जससे मोह बत करता ं, इ सां है ख़याली र नह
वो कौन सी सुबह ह जनम बेदार9 नह अफ़सू10
ं तेरा
वो कौन सी काली रात ह जो मेरे नशे म चूर नह
सुनते ह क कांटे से गुल तक ह राह म लाख वीराने
कहता है मगर ये
मे-जुनूं11 सहरा12 से गु ल तां र नह
‘मज ह’ उठ है मौजे-सबा13 आसार लये तूफ़ान के
हर क़तरा-ए-शबनम14 बन जाए इक जू-ए-रवां15 कुछ
नह

र

1. भा य 2. दल वाल क मह फ़ल 3. शराबी 4. भेद-भाव 5. मह फ़ल 6. जसक आंख म ज त हो 7. होट म
तसनीम (ज त क एक नहर) लये ए 8. वयोवृ धम-गु 9. जगा आ 10. जा 11. उ माद का संक प 12.
म थल 13. भात-समीर का झ का 14. ओस क बूंद 15. बहती नद

14
जब आ इफ़ा1 तो ग़म आरामे-जां2 बनता गया
सोज़े-जानाँ3 दल म सोज़े-द गरां4 बनता गया
र ता-र ता5 मु क़ लब6 होती गई र मे-चमन7
धीरे-धीरे न मा-ए- दल8 भी फ़ग़ां9 बनता गया
म अकेला ही चला था जा नबे-मं ज़ल10, मगर
लोग साथ आते गये और कारवां बनता गया
म तो जब मानूं क भर दे साग़रे-हर ख़ासो- म11
यूं तो जो आया वही पीरे-मुग़ां12 बनता गया
जस तरफ़ भी चल पड़े हम आबला-पायाने शौक़13
ख़ार से14 गुल और गुल से गु ल तां बनता गया
शरहे-ग़म15 तो मु तसर होती गई उसके ज़ूर16
ल ज़ जो मुंह से न नकला दा तां बनता गया
दहर म17 ‘मज ह’ कोई जा वदां18 मज़मूं19 कहा
म जसे छू ता गया वो जा वदां बनता गया
1. ान 2. सुखद 3. ेयसी के लए तपन 4. सर के लए तपन 5. शनैः-शनैः 6. प रव तत 7. उपवन क पर परा 8.
दल का न मा 9. आ नाद 10. मं ज़ल क ओर 11. साधारण, असाधारण
का याला 12. वयोवृ साक़ 13.
ेम क डगर पर चलते-चलते जनके पैर म छाले पड़ गये ह 14. काँटे से 15. ग़म क ा या 16. सामने 17. संसार
म 18. अमर 19. वषय

15
आ ख़र ग़मे-जानां को1 ऐ दल बढ़ के ग़मे-दौराँ2 होना था
इस क़तरे को बनना था द रया इस मौज को3 तूफ़ाँ होना था
हर मोड़ पे मल जाते ह अभी फ़द सो-जनाँ के4 शैदाई5
तुझ को तो अभी कुछ और हस ऐ लमे-इ कां6 होना था
वो जसके गुदाज़े-मेहनत से7 पुरनूर8 श ब ताँ9 है तेरा
ऐ शोख़ उसी बाज़ू पे तेरी ज फ़ को परीशाँ होना था
आती ही रही है गुलशन म अब के भी बहार आई है तो या
है यूं क क़फ़स के10 गोश से11 एलाने-बहाराँ होना था
आया है हमारे मु क म भी इक दौरे-जलैख़ाई12 यानी
अब वो ग़मे- ज़दां13 दे ते ह जनको ग़मे- ज़दां होना था
अब खुल के क ंगा हर ग़मे- दल ‘मज ह’ नह वो व त क
जब
अ क म14 सुनाना था मुझको आह म ग़ज़ल- वां15 होना था

1. ेयसी के ग़म को 2. सांसा रक ग़म 3. लहर को 4. ज त के 5. आस 6. संभावनापूण संसार 7. प र म से 8.
काशमान 9. शयनागार 10. पजरे के 11. कोन से 12. जलैखा: म दे श के शासक क पवती म लका जो
हज़रत युसुफ़ पर आस हो गई थी। इस स ब ध म उसे ब त क भोगने पड़े थे। 13. कारागार का ग़म 14. आंसु
म 15. गीत गाना

16
आ नकल के मैदाँ म दो ख़ी के1 ख़ाने से
काम चल नह सकता अब कसी बहाने से
अहदे -इ क़लाब2 आया, दौरे-आफ़ताब3 आया
मु त ज़र थ ये आंख जसक इक ज़माने से
अब ज़मीन गाएगी हल के साज़ पर न मे
वा दय म नाचगे हर तरफ़ तराने-से
अहले- दल उगायगे ख़ाक से महो-अंजुम4
अब गुहर5 सुबक6 होगा जौ के एक दाने से
मनचले बुनगे अब रंगो-बू के पैराहन7
अब संवर के नकलेगा न कारख़ाने से
म होगा अब हमदम सब पे फ़ैज़8 फ़तरत का
भर सकगे अब दामन हम भी इस ख़जाने से
सुनते हम तो या सुनते इक बुजग क बात
सुबह को इलाक़ा9 या शाम के फ़साने से
म क एक मेहनतकश, म क तीरगी- शमन10
सुबहे-नौ इबारत है मेरे मु कराने से11
ख़ुदकुशी ही रास आई दे ख बदनसीब को
ख़ुद से भी गुरेज़ां12 ह भाग कर ज़माने से
अब जुनूं पे13 वो सा त14 आ पड़ी क ऐ ‘मज ह’
आज ज़ मे-सर बेहतर दल पे चोट खाने से
1. रंगी के 2.

ा त-काल 3. सूरज का युग 4. चांद- सतारे 5. मोती 6. ह का, अ प मू य का 7. रंग और सुगं ध के

लबास 8. अनुक पा 9. स ब ध 10. अंधेरे का श ु 11. मेरे मु कराने से नई सुबह हो जाती है 12. उदासीन 13.
उ माद पर 14. ण, व त

17
अहले-तूफ़ां1 आओ, दल वाल का अफ़साना कह
मौज2 को गेसू3, भंवर को च मे-जानाना4 कह
दार5 पर चढ़कर लगाय नारा-ए-ज फ़े-सनम6
सब हम बाहोश7 समझ चाहे द वाना कह
वो शहे-ख़ूबां8 कधर है, फर चल उसके ज़ूर
ज़ दगी को दल कह और दल को नज़राना कह
थामे उस बुत क कलाई और कह इस को जुनूं
चूम ल मुंह और इसे अंदाज़े- र दाना9 कह
सुख़ -ए-मय10 कम थी मने छू लए साक़ के ह ठ
सर झुका है जो भी अब अरबाबे-मयख़ाना11 कह
तशनगी12 ही तशनगी है कस को क हये मयकदा13
लब14 ही लब हमने तो दे खे कसको पैमाना15 कह
पारा-ए- दल16 है वतन क सरज़म मु कल ये है
शहर को वीरां कह या दल को वीराना कह
ऐ ख़े-ज़ेबा17 बता दे और अभी हम कब तलक
तीरगी18 को शम , त हाई को परवाना कह
आज़ू ही रह गई ‘मज ह’ कहते हम कभी
इक ग़ज़ल ऐसी जसे त वीरे-जानाना19 कह
1. तूफ़ान वाल 2. लहर 3. केश 4. ेयसी क आंख 5. फांसी 6. ेयसी के केश का नारा 7. बु मान 8. सु द रय
क सरताज 9. शरा बय का ढं ग 10. शराब क लाली 11. मधुशाला वाले 12. यास 13. मधुशाला 14. ह ठ 15.
याला 16. दय का टु कड़ा 17. सु दर मुखड़े (वाले) 18. अंधकार 19. ेयसी का च

18
द ते-मुन्इम1 मेरी मेहनत का ख़रीदार सही
कोई दन और म सवा सरे-बाज़ार2 सही
बोल कुछ बोल मुक़ैयद3 लबे-इज़हार4 सही
सरे- मबर5 नह मुम कन तो सरे-दार6 सही
फर भी कहलाऊंगा आवारा-ए-गेसू-ए-बहार7
म तेरा दामे- ख़ज़ां,8 लाख गर तार सही
आने दे बाग़ के ग़ ार मेरा रोज़े- हसाब9
मांगे तनका न मलेगा यही गुलज़ार10 सही
ज त करता 11
ं तो लड़ जाती है मं ज़ल से नज़र
12
हाइले-राह कोई और भी द वार सही
ग़ैरते-संग13 है साक़ ये गुलू-ए- त ा14
तेरे पैमाने म जो मौज15 है तलवार सही
मने दे खी है इसी म ग़मे-दौरां क 16 झलक
बेख़बर रंगे-जहां से17 नगहे-यार18 सही
उनसे बछड़े ए ‘मज ह’ ज़माना गुज़रा
अब भी ह ठ म वही गम -ए- सार19 सही
1. पूंजीप त का हाथ 2. बीच बाज़ार म ज़लील 3. बंधन म 4. आ मा भ
करने वाले ह ठ 5. धम-मंच पर 6. सूली
पर 7. वस त- पी केश का आवारा 8. पतझड़ के जाल 9. लय- दवस (जब सब के पाप-पु य का हसाब होगा)
10. उपवन 11. छलाँग लगाता ं 12. माग का बाधक 13. प थर के लए ल जा 14. यासा कंठ 15. शराब क लहर
16. सांसा रक ग़म क 17. संसार के रंग-ढं ग से 18. म या ेयसी क नज़र 19. गाल क गम

19
ह , जो सारे द तो-पा1 ह ख़ूं म नहलाये ए
हम भी ह ऐ दल! बहाराँ क 2 क़सम खाये ए
दे ख अ -े जंग के3 दामन को उलझाये ए
पेच खाते ह फ़ज़ा म4 हाथ झुंझलाये ए
ख़ त5 है ऐ हमनश 6 अ ले-हरीफ़ाने-बहार7
है ख़ज़ां उनक उ ह आईना दखलाये ए
या है ज़ े -आ तशो एटम8 क ग़ ाराने-गुल9
मारते ह हाथ अंगार पे घबराये ए
कांपकर सर से ज़म पर गर पड़ा ख़ुसरो10 का ताज
बढ़ रहा है तेशाज़न11 कोहे- गराँ12 ढाये ए
ज़ दगी क क़ सीखी शु या तेग़-े सतम13
हाँ हम थे कल तलक जीने से उकताये ए
सैरे-सा हल कर चुके ऐ मौजे-सा हल14 सर न मार
तुझ से या बहलगे तूफ़ान के बहलाये ए
है यही इक कारबारे-न मा-ओ-म ती15 क हम
या ज़म पर या सरे-अफ़लाक16 ह छाये ए
साज़ उठाया जब तो गरमाते फरे ज़र के दल
जाम हाथ आया तो मेहरो-मह17 के हमसाये ए
द त-ओ-दर18 बनने को ह ‘मज ह’ मैदाने-बहार
आ रही है फ़ ले-गुल19 परचम को20 लहराये ए

1. हाथ-पांव 2. वस त ऋतु (लाने) क 3. यु के बादल के 4. वातावरण म 5. उ मादयु 6. साथी 7. वस त-ऋतु के
श ु क बु 8. एटम-बम और आग क चचा 9. फूल (वस त) के ोही 10. एक बादशाह का नाम 11. फ़रहाद
(मज़ र) 12. महापवत 13. अ याचार क तलवार 14. तट पर क लहर 15. उ माद और संगीत का कारोबार 16.
आकाश पर 17. चांद-सूरज के 18. जंगल और दरवाज़े 19. वस त-ऋतु 20. झंडे को

20
जला के मश ले-जां1 हम जुनू-ं सफ़ात2 चले
जो घर को आग लगाए हमारे सात3 चले
दयारे-शाम4 नह , मं ज़ले-सहर5 भी नह
अजब नगर है यहां दन चले, न रात चले
आ असीर6 कोई हमनवा7 तो र तलक
ब-पासे-तज़-नवा8 हम भी सात-सात चले
हमारे लब न सही, वो दहाने-ज़ म9 सही
वह प ंचती है यारा कह से बात चले
सतून-े दार पे10 रखते चलो सर के चराग़
जहां तलक ये सतम11 क सयाह रात चले
बचा के लाए हम ऐ यार फर भी नक़दे -वफ़ा12
अगरचे लुटते ए रहज़न के13 हात चले
फर आई फ़ ले-नौ14 मा न दे -बग-आवारा15
हमारे नाम गुल के मुरासलात16 चले
क़तारे-शीशा17 है या कारवाने-हमसफ़रां18
ख़रामे-जाम19 है या जैसे कायनात चले
बुला ही बैठे जब अहले-हरम20 तो ऐ ‘मज ह’
बग़ल म हम भी लए इक सनम21 का हात चले
1. जान या जीवन पी मश ल 2. उ म 3. साथ 4. शाम का नगर या ठकाना 5. सुबह क मं ज़ल 6. ब द 7.
सहभाषी 8. भा य के ढं ग का मान रखने को 9. घाव का मुँह 10. सूली के तंभ पर 11. अ याचार 12. वफ़ा पी
नकद 13. डाकु
के 14. नई ऋतु 15. आवारा प क तरह 16. प , संदेश 17. शराब क बोतल क पं 18.

सहया य का कारवान 19. शराब के याल का चलना 20. हरम (म जद या का‘बा) वाले 21. मू त (सु दरी)

21
मन क दो ती है अब अहले-वतन के1 साथ
है अब ख़ज़ां चमन म नये पैरहन2 के साथ
सर पर हवा-ए-ज म3 चले सौ जतन के साथ
अपनी कुलाह4 कज है5, उसी बांकपन के साथ
बहकर ज़म पे है अभी ग दश म ख़ूं मेरा
क़तरे वो फूल बनते ह ख़ाके-वतन के साथ
कसने कहा क टू ट गया ख़ंजरे-फ़रंग6
सीने पे ज़ मे-नौ7 भी है दाग़े-कुहन के8 साथ
झ के जो लग रहे ह नसीमे-बहार के9
जुं बश म10 है क़फ़स11 भी असीरे-चमन12 के साथ
‘मज ह’ क़ा फ़ले क मेरे दा तां है ये
रहबर13 ने मल के लूट लया राहज़न14 के साथ
1. दे शवा सय के 2. लबास 3. अ याचार क हवा 4. टोपी 5. टे ढ़ है 6. फ़रंगी (अं ेज़) का खंज़र 7. नया घाव 8.
पुराने दाग़ के 9. वस त-पवन के 10. हरकत म 11. पजरा (कारागार) 12. बाग़ (अथात् दे श) के क़ैद 13. पथदशक 14. डाकू

22
पदारे-तम ा1 टू ट के भी दल का कोई आलम2 या होगा
जो ताबे-सुकूं तक ला न सके,3 वो दद-मुज सम4 या होगा
हम अपना मुदावा5 ढूं ढ़ चुके, द रया म सहरा म
तुम भी जसे त क दे न सके वो दद-जुनूं6 कम या होगा
गो ख़ाक-नशेमन7, पर अब भी ह गरयाकनां8 अरबाबे-चमन9
जब बक़10 तड़प कर टू ट थी उस व त का आलम या होगा
जस शोख़ नज़र क मह फ़ल म आंसू भी तब सुम बन जाए
वां शम जलाई जाएगी परवाने का मातम या होगा
अब अपनी नज़र है बेमानी मफ़ मे-तम ा11 कुछ भी नह
जब इ क भी था कुछ ची-ब-जब 12 अब न भी बरहम या
होगा
‘मज ह’ मेरे अरमान का अंजाम शक ते- दल13 ही सही
जी खोल के ख़ुद पर हंस न सकूं इतना भी मुझे ग़म या होगा

1. आकां ा का गौरव 2. थ त 3. शा त को सहन न कर सके 4. साकार पीड़ा 5. इलाज 6. उ माद क पीड़ा 7.
जनका घ सला जल चुका है 8. रो रहे 9. वा टका वाले (दे शवासी) 10. बजली 11. आकां ा का अथ 12. योरी
चढ़ाए ए 13. दल का टू टना

23
मेरे पीछे ये तो मुहाल है1 क ज़माना गम-सफ़र2 न हो
क नह मेरा कोई न शे-पा3 जो चराग़े-रहगुज़र4 न हो
ख़े-तेग़ से5 जो न हो कभी सहर6 ऐसी कोई नह मेरी
नह ऐसी एक भी शाम जो तहे-ज फ़े-दार7 बसर न हो
मेरे हाथ ह तो बनूंगा ख़ुद म अब अपना साक़ -ए-मैकदा8
ख़ुमे-ग़ैर से9 तो ख़ुदा करे लबे-जाम10 भी मेरा तर न हो
म हज़ार श ल बदल चुका चमने-जहां म11 सुन ऐ सबा12
क जो फूल है तेरे हाथ म ये मेरा ही ल ते- जगर13 न हो
ज ह सब समझते ह मेहरो-मह14 नह सफ़ च द नुक़ूशे-पा15
जसे कहते ह कुरा-ए-ज़म 16 फ़क़त17 एक संग-े सफ़र18 न हो
तेरे पा19 ज़म पे के- के तेरा सर फ़लक पे20 झुका-झुका
कोई तुझसे भी है ज़ीमतर21, यही वहम तुझको मगर न हो
शबे-ज म22 नग़ा-ए-राहज़न से23 पुकारता है कोई मुझे
म फ़राज़े-दार से24 दे ख लूं कह कारवाने-सहर25 न हो
1. असंभव है 2. ग तशील 3. पद- च 4. माग का द पक 5. तलवार (के चेहरे) का 6. सुबह 7. सूली के केश के नीचे
8. शराबख़ाने (दे श) से साक़ 9. सरे के शराब के मटके से 10. याले के ह ठ ( सरे) 11. संसार- पी उपवन म 12.
भात समीर 13. दल का टु कड़ा 14. चांद-सूरज 15. पद- च 16. पृ वी 17. केवल 18. माग का प थर 19. पांव
20. आकाश पर 21. महानतर 22. अंधेरी रात म 23. डाकु
क पकड़ से 24. फांसी क ऊंचाई से 25. सुबह का
कारवां

24
जुनून-े दल1 न सफ़ इतना क इक गुल-पैरहन2 तक है
क़द-ओ-गेसू से3 अपना सल सला दार-ओ-रसन तक4 है
मगर ऐ हम-क़फ़स5 कहती है शोरीदासरी6 अपनी
ये र मे-क़ैद-ओ- ज़दां7 एक द वारे-कुहन तक8 है
य दे रहे ह रा ते मुझ आबला-पा9 को
मेरे क़दम क गुलकारी बयाबां से चमन तक है
म या- या जुर -ए-ख़ूं10 पी गया पैमाना-ए- दल म
बलानोशी मेरी या इक मै-ए-साग़र- शकन11 तक है
न आ ख़र कह सका उससे मेरा हाले- दले-सोज़ां12
महे-ताबां13 क जो उसका शरीके-अंजुमन14 तक है
नवा15 है जा वदां16 ‘मज ह’ जसम हे-सा त17 हो
कहा कसने मेरा न मा ज़माने के चलन तक है

1. मन का उ माद 2. फूल के व (पहनने वाली ेयसी) 3. क़द और केश से (चलकर) 4. सूली और फांसी के फंदे
तक 5. कारागार के साथी 6. द वानगी 7. क़ैद और कारागार क री त 8. पुरानी या जजर द वार तक 9. जसके पांव
म छाले पड़ गये ह 10. ख़ून के घूँट 11. टू टे याले क शराब 12. दद-भरे दल का हाल 13. चमक ला चांद 14.
मह फ़ल का साथी 15. आवाज़ (गीत) 16. अमर 17. समय क आ मा

25
बाइसे-ज वा-ए-गुल1 द दा-ए-तर2 है क नह
मेरी आह से बहाराँ3 क सहर4 है क नह
राह-गुमकदा 5ं कुछ उसको ख़बर है क नह
उसक पलक पे सतार का गुज़र है क नह
दल से मलती तो है इक राह कह से आकर
सोचता ं ये तेरी राहगुज़र है क नह
तेज़ हो द ते- सतम6, दे भी शराब ऐ साक़
तेग़ गदन पे सही जाम सपर7 है क नह
-ए-मश रक़8 क क़सम हमको है इतना मालूम
शबे-दौरां9 तेरे पहलू म सहर है क नह
म जो कहता था सो ऐ रहबरे-कोताह- ख़राम10
तेरी मं ज़ल भी मेरी गद-सफ़र11 है क नह
अहले-तक़द र12! ये है मो‘जज़ा-ए-द ते- मल13
जो ख़ज़फ़14 मने उठाया वो गुहर15 है क नह
दे ख क लय का चटकना सरे-गुलशन16 सैयाद17
ज़मज़मासंज18 मेरा ख़ूने- जगर है क नह
हम रवायात के19 मु कर20 नह ले कन ‘मज ह’
सबक और सबसे जुदा अपनी डगर है क नह
1. फूल के ज वे (का त या दशन) का कारण 2. सजल ने 3. वस त 4. सुबह 5. माग से भटका आ 6. अ याचार
का हाथ 7. ढाल 8. पूरब के मुख 9. संसार क रात 10. कम या धीरे चलने वाला पथ- दशक 11. माग क धूल 12.
भा य म व ास रखने वाले 13. कमशील हाथ का चम कार 14. ठ करा 15. मोती 16. उपवन म 17. शकारी 18.
गीत गा रहा 19. पर परा के 20. मानने वाले

26
हम ह मता -ए-कूचा-ओ-बाज़ार क 1 तरह
उठती है हर नगाह ख़रीदार क तरह
इस कू-ए-तशनगी2 म ब त है क एक जाम
हाथ आ गया है दौलते-बेदार क 3 तरह
वो तो कह है और, मगर दल के आस-पास
फरती है कोई शै नगहे-यार4 क तरह
सीधी है राहे-शौक़5, पे यूंही कह -कह
ख़म हो गई है गेसु-ए- दलदार6 क तरह
अब जा के कुछ खुला, नरे-नाख़ुन-े जुनूं7
ज़ मे- जगर ए लब-ओ- ख़सार क 8 तरह
‘मज ह’ लख रहे ह वो अहले-वफ़ा का9 नाम
हम भी खड़े ए ह गुनहगार क तरह
1. गली-कूचे म बकने वाली चीज़ क 2. यास क गली 3. सचेत धन क 4. ेयसी क नज़र 5. ेम माग 6. ेयसी
के केश क तरह 7. उ माद पी नाख़ून क कारीगरी 8. होठ और कपोल क 9. वफ़ादार का

27
अदा-ए-तूल-े सुखन1 वो या अ तयार2 करे
जो ज़-हाल3 बतज़- नगाहे-यार4 करे
ख़ज़ां से छ न के अब न दे -गुल5 शुमार6 करे
कहो सबा7 से बहार का कारोबार करे
ब त ही त ख़-नवा8 ं मगर अज़ीज़ वतन9
म या क ं जो तेरा दद बेक़रार करे
क़दम को फ़ैज़े-जुनूँ से10 वो आबला11 है नसीब12
जो ख़ारे-राह को13 भी शमए-रहगुज़ार14 करे
जगाय हम-सफ़र को जलाय मश ले-शौक़
न जाने कब हो सहर15 कौन इ तज़ार करे
मसाल मलती है कतन क उस द वाने से
चमन से र जो बैठा ग़मे-बहार करे
दयारे-जौर16 म र ता है इक यही वना
कसे पसंद है ऐ दल क सैर-े दार17 करे
खुदा करे ग़मे-गेती18 का पेचो-ताब ऐ दो त
कुछ और भी तेरी ज फ़ को ताबदार करे
सतम! क तेग़-े क़लम19 द उसे, जो ऐ ‘मज ह’
ग़ज़ल को क़ ल करे न मे को शकार करे
1. बात को ल बा करने का ढं ग 2. हण 3. मनः थ त का वणन 4. ेयसी क नज़र क तरह 5. फूल का मोल 6.
गणना 7. भात-समीर 8. कटु -भाषी 9. यारे दे श 10. उ माद क कृपा से 11. छाला 12. ा त 13. माग के कांटे को
14. माग का द प 15. सुबह 16. ज म क वाद 17. सू लय क सैर अथात् सूली पर चढ़ना 18. संसार के ग़म 19.
क़लम पी तलवार

28
हम शऊरे-जुनूं है1 क जस चमन म रहे
नगाह बन के हसीन क अंजुमन2 म रहे
तू ऐ बहारे-गुरेज़ां3 कसी चमन म रहे
मेरे जुनूं क महक तेरे पैरहन4 म रहे
न हम क़फ़स म के म ले-बू—ए-गुल5 स याद6
न हम मसाले-सबा7 ह क़ा-ए-रसन म8 रहे
खुले जो हम तो कसी शोख़ क नज़र म खुले
ए गरह9 तो कसी ज फ़ क शकन म रहे
सरशके-रंग न ब शे10 तो य हो बारे- मज़ां11
ल हना12 नह बनता तो य बदन म रहे
जूमे-द म13 बदली न हम से वज़ए- ख़राम14
गरी कुलाह,15 हम अपने ही बांकपन म रहे
ज़बां हमारी न समझा यहां कोई ‘मज ह’
हर अजनबी क तरह अपने ही वतन म रहे
1. उ माद का ढं ग आता है 2. मह फ़ल 3. कतराती बहार 4. लबास 5. फूल क सुगंध क तरह 6. शकारी 7. भात
समीर क तरह 8. फांसी क र सी के घेरे म 9. गांठ 10. आंसू य द रंग न द (ख़ून के आंसू न बह) 11. पलक का
बोझ 12. महद 13. संसार के जनसमूह 14. चलने का अंदाज़ 15. टोपी

29
हम को जुनूं1 या सखलाते हो, हम थे परेशां तुम से यादा
फाड़े ह गे, हम ने अज़ीज़ो, चार गरेबां तुम से यादा
चाके जगर2 मुहताजे-रफ़ू है,3 आज तो दामन सफ़-ल 4 है
इक मौसम था, हम को रहा है, शौक़े-बहारां तुम से यादा
अहदे -वफ़ा5 यार से नभाएं, नाज़े-हरीफ़ां6 हँस के उठाय
जब हम अरमां तुम से सवा था, अब ह पशेमां7 तुम से यादा
हम भी हमेशा क़ ल ए और तुमने भी दे खा र से ले कन
ये न समझना हम को आ है, जान का नुक़सां तुम से यादा
जाओ तुम अपने बाम क ख़ा तर8, सारी लव शम क कतर
लो
ज़ म के मे -ओ-माह सलामत9, जशने- चराग़ां10 तुम से
यादा
दे ख के उलझन ज फ़े-बुता क 11, कैसे उलझ पड़ते ह हवा से
हम से पूछो, हम को है यारो, फ़ े - नगारां12 तुम से यादा
ज़ंजीर-ओ-द वार ही दे खी तुमने तो ‘मज ह’, मगर हम
कूचा-कूचा दे ख रहे ह, आलमे- ज़ दां13 तुम से यादा
1. उ माद 2. फटा आ जगर 3. रफ़ू चाहता है 4. ल म भीगा 5. ेम त ा म 6. त
य के नख़रे 7. ल जत
8. छत (पर रोशनी करने) के लए 9. चांद सूरज 10. रोश नय का जशन 11. ेयसी के केश क 12. सु द रय (दे श)
क च ता 13. कारागार का संसार

30
बनामे-कूचा-ए- दलदार1 गुल बरसे क संग आये
हँसा है चाके-पैराहन,2 न य चेहरे पे रंग आए
बचाते फरते आ ख़र कब तलक द ते-अज़ीज़ से3
उ ह को स प कर हम तो कुलाहे-नामो-नंग4 आए
हँसो मत अहले- दल, अपनी सी जानो, ब मे-ख़ूबाँ5 म
चले आये इधर हम भी, ब त जब दल से तंग आए
कहाँ सहने-चमन6 म बात कू-ए-सरफ़रोशाँ7 क
इधर से सादा-सू प ँच,े उधर से लालारंग आये
करो ‘मज ह’ तब दारो-दसन के तज़ करे8 हम से
जब उस क़ामत9 के साये म तु ह जीने का ढं ग आए
1. दलदार के कूचे के नाम पर 2. फट ई पोशाक 3. यजन के हाथ से 4. नाम और स मान क पगड़ी 5. हसीन
क मह फ़ल 6. बग़ीचे क सेहन या आंगन 7. सरफ़रोश के कूचे या गली 8. फाँसी और उसक र सी का ज़ 9. क़द
या ऊँचाई

31
ख़ंजर क तरह बू-ए-समन1 तेज़ ब त है
मौसम क हवा अब के जनूँख़ेज़2 ब त है
रास आये तो हर सर पे ब त छाँव घनी है
हाथ आये तो हर शाख़ समरख़ेज़3 ब त है
लोगो, मेरी गुलकारी-ए-वहशत का सला4 या
द वाने को इक हफ़- दलआवेज़5 ब त है
मसलूब6 आ कोई सरे-राहे-तम ा7
आवाज़े-जरस8 पछले पहर तेज़ ब त है
‘मज ह’ सुने कौन तेरी त ख़नवाई9
गु तारे-अज़ीज़ाँ शकरआमेज़ ब त है10
1. चमेली के फूल क ख़ु बू 2. जनून या पागल करने वाली 3. फलदार 4. मेरी द वानगी क कशीदाकारी या सजावट
का इनाम 5. दल को छू लेने वाला एक श द 6. फाँसी चढ़ गया 7. हसरत या कामना क राह के बीच बीच 8. घंटे
क आवाज़ 9. कड़वी और तीखी बात 10. यजन क बात ब त मीठ ह

32
सू-ए-म तल क पै-ए-सैरे-चमन1 जाते ह
अहले- दल जाम ब कफ़, सर ब क़फ़न2 जाते ह
आ गई फ़ ले-जुनूँ3, कुछ तो करो द वानो
अ सहरा क तरफ़ साया फ़गन4 जाते ह
उसको दे खा नह तुमने, क यही कूचा-ए-राह
शाख़े-गुल शोख़ी-ए-र तार से5 बन जाते ह
वो अगर बात न पूछ, तो कर या हम भी
आप ही ठते ह, आप ही मन जाते ह
बुलबुलो, अपनी नवा6 फ़ैज7 है उन आँख क
जनसे हम सीखने अंदाज़े-सुख़न8 जाते ह
जो ठहरती, तो ज़रा चलते सबा के हमराह9
य भी हम रोज़ कहाँ सू-ए-चमन जाते ह
लुट गया क़ा फ़ला-ए-अहले-जुनूँ10 भी शायद
लोग हाथ म लए दारो-रसन जाते ह
रोक सकता हम ज़दाँने-बला11 या ‘मज ह’
हम तो आवाज़ ह द वार से छन जाते ह
1. क लगाह क तरफ़ क बाग़ क सैर के लए 2. दलदार हाथ म जाम लए और सर पर क़फ़न बाँधे जाते ह 3.
पागलपन या द वानगी का मौसम 4. बादल रे ग तान क तरफ़ छाया करते जाते ह 5. चाल क चंचलता से फूल क
डाली जैसे 6. आवाज़ 7. उपहार या कृपा 8. का -कला 9. सुबह क शीतल-मंद पुरवाई के साथ 10. द वान के
का फले 11. तक़लीफदे ह क़ैदख़ाना

33
गो रात मरी सुबह क महरम1 तो नह है
सूरज से तेरा रंगे- हना2 कम तो नह है
कुछ ज़ म ही खाएँ, चलो कुछ गुल ही खलाएँ
हरचंद3 बहाराँ का ये मौसम तो नह है
चाहे वो कसी का ल हो दामने-गुल पर
सैयाद, ये कल रात क शबनम तो नह है
इतनी भी हम बं दशे-ग़म4 कब थी गवारा5
पद म तरी काकुले-पुरख़म6 तो नह है
अब कारगहे-दहर7 म लगता है ब त दल
ऐ दो त, कह ये भी तेरा ग़म तो नह है
सहरा म बगूला8 भी है, ‘मज ह’ सबा9 भी
हम-सा कोई आवारा-ए-आलम10 तो नह है
1. जानकार, मम 2. महद क लाली 3. य प, हालाँ क 4. ग़म या ख क पाबंद 5. बरदा त या सहन 6. घुंघराले
केश 7. व त के कारखाने म 8. गम हवा का झ का 9. सुबह क ठं डी हवा 10. नया भर का आवारा

34
वो जो मुँह फेर कर गुज़र जाए
ह 1 का भी नशा उतर जाए
अब तो ले ले ये ज़दगी या रब
य ये तोहमत2 भी अपने सर जाए
आज उठ इस तरह नगाहे-करम3
जैसे शबनम से फूल भर जाए
अजनबी रात, अजनबी नया
तेरा ‘मज ह4 अब कधर जाए
1. आपदा, वप , क़यामत 2. लांछन 3. कृपा4. घायल, ज़ मी ( वशेष प से यान दे ने क बात यह है क
मज ह साहब ग़ज़ल के आ ख़री (म ते के) शे‘र म अपना नाम भी शे‘र के अथ के अनु प ही दे ते ह)

35
दाग़ से महक ई ज़ म से लाला पैरहन1
कस क़दर मलती है शाख़े-दद से शाख़े-चमन
फ़श-गुल, मीना-ए-मै, शम्-ए-सहर, साज़े-सुख़न2
सब उठे , ले कन न उट् ठा म ख़राबे-अंजुमन3
मु दए-याराने- त ा4, दल से फूटा फर ल
ऐ शबे-तारे-अज़ीज़ाँ5 फर जला दाग़े-कुहन6
साज़ म अब शो रशे-ग़म7 लाए मुत रब8 कस तरह
उसक धुन पाबंदे-नै9, न मा हमारा नै- शकन10
दे खए कब तक बला-ए-जाँ11 रहे इक हफ़-शौक़12
दल-हरीसे-गु तगू और च मे-ख़ूबाँ कमसुख़न13
सच तो है मज ह ने उस गुल से कुछ पैमाँ14 लए
ये ख़बर ले कन कहाँ से ले उड़ा मुग़-चमन15
1. लाल लबास म 2. फूल का फ़श, शराब क सुराही, सुबह क शमां, शायरी का साज़, 3. उजड़ी ई मह फ़ल 4.
यासे दो त ारा बहाया गया 5. यजन क अंधेरी रात 6. पुराना ज म 7. ग़म या ख क त खी 8. गायक 9.
बांसुरी के सुर से बंधी ई 10. बाँसुरी से ख़ाली 11. जान क बला या मुसीबत 12. ेम का एक श द 13. दल म य
से बात करने क ललक और यतमा क आँख कम बोलने वाली 14. वचन, वादे , 15. बगीचे का प ी

36
उस बाग़ म वो संग के का बल कहा न जाय
जब तक कसी समर1 को मेरा दल कहा न जाय
शाख पे नोके-तेग़2 से या- या लखे ह फूल
अ दाज़े-लालाका रए-क़ा तल3 कहा न जाय
कसके ल के रंग ह ये ख़ारे-शोख रंग4
या गुल कतर गई रहे-मं ज़ल5, कहा न जाय
बाराँ के मुंत ज़र6 ह सम दर ये त ालब7
अहवाले-मेज़बानी-ए-सा हल8 कहा न जाय
मेरे ही संगो- ख़ त से तामीरे-बामो-दर9
मेरे ही घर को शहर म शा मल कहा न जाय
ज दाँ10 खुला है जब से ए ह रहा असीर11
हर गाम12 है वो शोरे-सला सल13 कहा न जाय
हम अहले-इ क़14 म नह हफ-गुनह15 से कम
वो हफ-शौक़16 जो सरे-मह फ़ल कहा न जाय
जस हाथ म है तेग़-े जफ़ा17 उसका नाम लो
मज ह से तो साये को क़ा तल कहा न जाय।
1. फल 2. तलवार क नोक 3. क़ा तल क लाल कशीदाकारी का अ दाज़ 4. चटख और भड़क ले रंग वाले काँटे 5.
मं ज़ल का रा ता 6. बा रश के इ तज़ार 7. यासे लोग 8. तट क मेहमाननवाज़ी का वृ ा त 9. मेरे ही ट-प थर से
बनाई गई छत व दहलीज़ 10. क़ैदखाना 11. कैद 12. कदम या डग 13. बे ड़य या ज़ंजीर का शोर 14. ेम करने
के बीच 15. पाप या गुनाह के अ र 16. इ छा, आकां ा 17. अ याय क तलवार

37
चमन है म तले-न मा1, अब और या क हए
बस इस सुकूत का आलम2, जसे नवा3 क हए
असीरे - ब दे - ज़माना ह सा हबाने - चमन4
मेरी तरफ से गुल को ब त आ क हए
यही है जी म क वो र ता-ए-तग़ाफुलो नाज़5
कह मले, तो वह क़ सा-ए-वफ़ा क हए
उसे भी यूँ न फर अपने दले-जबू6ँ क तरह
खराबे - काकुलो - आवारा - ए - अदा7 क हए
ये कू-ए-यार, ये ज दाँ, ये फश-मैख़ाना
इ ह हम अहले-तम ा के न शे-पा8 क हए
वो एक बात है, क हए तुल-ू ए-सुबहे- नशात9
क ता बशे - बदनो - शोला - ए- हना10 क हए
वो एक हफ़ है, क हए उसे हकायते-ज फ़11
क शकवा-ए-रसनो-बं दशे-बला12 क हए
रहे न आँख, तो य दे खए सतम क तरफ
कटे जबान, तो य हफ़-ना बजा13 क हए
पुका रए कफ़े-क़ा तल14 को अब मुआ लज़े- दल15
बढ़े जो नाखुन-े खंजर16, गरहकुशा17 क हए
पड़े जो संग तो क हए उसे नवाला-ए-ज़र18
लगे जो ज़ म बदन पर, उसे क़बा19 क हए

फ़साना ज़ 20 का यार क तरह य ‘मज ह’
मज़ा जो तब है क क हए जो, बरमला21 क हए
1. न मा या गीत का वध थल 2. शा त वातावरण 3. आवाज़ 4. बगीचे के लोग ज़माने के कैदखाने के कैद ह 5. बीते
व क उपे ा और गव क तमू त 6. ज़ मी दल 7. आवारा अदा और खुल-े उड़ते केश से वकृत 8. इ छा ,
आकां ा से भरे लोग के पैर के नशान 9. सुखद सवेरे का उगना 10. बदन क चमक और महद क अ न- वाल
11. ज फ क कथा 12. फाँसी के फ दे का शकवा या शकायत और मुसीबत क ब दश 13. अनु चत श द 14.
ह यारे क हथेली 15. दल क दवा करने वाला 16. तलवार क नोक 17. क नवारण करने वाला 18. दौलत का
टु कड़ा 19. बदन को ढकने वाली पोशाक 20. अ याचार क कथा 21. मुँह पर, सब के सामने

38
सतम को सर नगू1ँ , ज़ा लम को वा2 हम भी दे खगे
चल, ऐ अ मे-बग़ावत3 चल, तमाशा हम भी दे खगे
अभी तक तो फ़क़त अंजाम ही दे खा मुह बत का
कहाँ है दौरे-आग़ाज़े-तम ा4, हम भी दे खगे
पला कर ख़ूने- दल गेती5 को, ऐ शौक़े-चमनब द 6
कफ़े-हर ग़ंचा7 म तक़द रे-सहरा8 हम भी दे खगे
फ़ज़ा-ए-ए शया पर ये घटा है जंग क साक़
बहार आई तो सू-ए-जामो-मीना9 हम भी दे खगे
अभी तो फ़ कर इन दल से नाजक आबगीन 10 क
ब फ़ैज़े-अ न11, फर साग़र म द रया12 हम भी दे खगे
नगारे-च 13 का घायल, तोड़ता है दम सरे-म तल14
बचा ले आके एजाज़े-मसीहा15, हम भी दे खगे
ज़ब पर ताजे-ज़र16, पहलू म ज दाँ, बक छाती पर
उठे गा बेक़फ़न अब ये ज़नाज़ा, हम भी दे खगे
1. सर नीचा कए ए 2. बदनाम 3. व ोह का संक प 4. आकां ा के फलीभूत होने का ज़माना 5. नया 6.
बागबानी का शौक 7. हर इक कली क हथेली 8. रे ग तान क तकद र 9. याले और सुराही 10. काँच के पा 11.
शा त क अनुक पा से 12. याले म नद को उमड़ते ए 13. चीन क कला यता 14. वध थल म 15. मसीहा क
त ा 16. माथे पर दौलत का ताज

39
वो तो गया, ये द दा-ए-खूँबार1 दे खए
दामन पे रंग-े पैरहने-यार2 दे खए
दखला के वो तो ले भी गया शो ख़ए- ख़राम3
अब तक ह र स म दरो-द वार4 दे खए
उकता के हमने तोड़ी थी ज़ंजीरे-नामो-नंग5
अब तक फ़ज़ा म है वही झंकार दे खए
सीने म छु प गया है तुल-ू ए-सहर6 के साथ
अब शाख़े- दल पे वो गुल-े ख़सार दे खए
बक-तपीदा, बादे -सबा, शोला7 और हम
ह कैसे-कैसे उनके गर तार दे खए
पहले भी तेज़ रौ थे, पर उस दलनश के साथ
ये च मे-नम8, ये म ती-ए-र तार9 दे खए
मज ह के लब से ये खु बू न जा सक
ब शी जो उसने दौलते-बेदार10 दे खए
1. खून टपकाती आँख 2. यतम के लबास का रंग 3. चाल क लचक, 4. दहलीज और द वार नाचती-झूमती ई 5.
शोहरत क ज़ंजीर 6. सुबह उगने के साथ 7. आग बरसाती बजली, सुबह क हवा, आग 8. गीली आँख 9. चाल क
म ती 10. ख़ुशनसीबी

40
वो जस पे तु ह शम्-ए-सरे-रह का गुमाँ1 है
वो शोल-ए-आवारा2 हमारी ही जबाँ है
अब हाथ हमारे ह इनाँ र शे-जुनूँ3 क
अब सर पे हमारे कुलहे-संगे-बुताँ4 है
बस फेर के मुँह ख़ार क़दम ख च रहे ह
दे खा तो नहाँ क़ाफ़ला-ए-हमसफ़राँ5 है
चुभने को बनी ख़ारे- सफ़त पा-ए- ख़जाँ6 म
या क जै ब त हम को ग़मे-लाला खाँ है
काम आए ब त लोग सरे-म तले-ज मात7
ऐ रोशनी-ए-कूच-ए- दलदार8 कहाँ है?
ऐ फ़ ले-जुनूँ हमको प-ए-श ले-गरेबाँ9
पैबंद ही काफ़ है अगर जामा10 गराँ11 है
मज ह कहाँ से गुहरे-गं म-औ-जौ12 लाए
अपनी तो गरह म यही च मे- नग़राँ13 है।
1. रा ते क शमा का स दे ह 2. आवारा आग, उड़ती चनगारी 3. पागल घोड़े क लगाम 4. नदय सु द रय का पट् टा
या सर का पहनावा 5. हमसफ़र का कारवाँ 6. काँट क खूबी पतझड़ के पैर म चुभना ही है 7. अ याचार क
क़ लगाह म ब त से लोग शहीद ए 8. यतम क गली क रोशनी 9. ऐ उ माद मौसम, हम तो गरेबान फाड़ने का
काम ही रास आता है 10. कपड़ा 11. महँगा 12. गे ँ और जौ के मोती 13. मेरी गाँठ म तो इ तज़ार करती आँख ही ह

41
द ते-पुरख़ूँ को कफ़े-द ते- नगाराँ समझे1
क़ लगह2 थी जसे हम मह फ़ले-याराँ3 समझे
कुछ भी दामन म नह ख़ारे-मलामत4 के सवा
ऐ जुनूँ,5 हम भी कसे कू-ए-बहाराँ6 समझे
टू टे धागे से ही करते ह रफ़ू चाके- जगर7
कौन बेचारगी-ए-सीना फ़गाराँ8 समझे
है वो बेदद तो बेमाना ही अ छा, यारो
जो न तौक़ रे-ग़मे-ददगुसाराँ9 समझे
ख़ंदाज़न उस पे रहे ह का-ए-ज़ंजीरे जुनूँ10
जो न कुछ मं ज़लते- सल सला-दाराँ11 समझे
आज से हमने भी ज़ म को तब सुम12 जाना
र म को ब मगहे-लालाअज़ाराँ समझे13
तोड़ द हम जो न तलवार, तो क हए मज ह
तेग़ज़न या नरे-ज मशुआराँ समझे14
1. खून से रंगे हाथ को हमने े मका क हथेली समझा 2. क लगाह या वध थल 3. याद क मह फल 4. ध कार
के काँटे 5. ऐ मेरे पागलपन 6. बसंत-ऋतु क गली 7. ज़ मी जगर को गाँठना 8. टू टे ए या खी दल क मजबूरी
9. खीजन के दद का स मान करना 10. उ माद क ज़ंजीर का घेरा उसक हँसी उड़ाए 11. फाँ सय के सल सले
का महल 12. मु कान 13. जंग या यु के मैदान क लाल-लाल गाल वाली सु द रय क मह फल 14. तलवार
चलाने वाला ज़ म सहने क कला को समझे

42
जस दम ये सुना, है सु हे-वतन महबूस फ़ज़ाए- ज़दाँ म1
जैसे क सबा2, ऐ हमक़फ़सो3, बेताब4 हम आए ज़दाँ म
ह तेग़-असर ज़ंज़ीरे-क़दम5, फर भी ह नक़ वे-मं ज़ल6 हम
ज़ म से चराग़े-राहगुज़र बैठे ह जलाए ज़दाँ म
सद चाक क़बा-ए-अ नो-सुकूँ, उ रयाँ है अ हसाई का जुनूँ7
कुछ ख़ूँ से शहीद ने अपने, वो गुल ह खलाए ज़दाँ म
ये ज े- सयासत, ये इंसाँ, म लूम आह, मजबूर फ़गाँ8
ज़ म क महक दाग़ का धुआँ, मत पूछ फ़जाए- ज़दाँ म
ग़ैर क ख़ लश9, अपन क लगन, सोज़े-ग़मे-जानाँ,10 ददवतन
या क हए क हम ह कस कस को सीने से लगाए ज़दाँ म
गुल बनती है शायद ख़ाके-वतन, शायद क सफ़र करती है
ख़ज़ाँ11
ख़ु बू-ए-बहाराँ12 मलती है, कुछ दन से हवा-ए- ज़दाँ म13
मुज रम थे जो हम, सो क़ैद ए, सैयाद मगर अब ये तो बता
हर व ये कसको ढूँ ढ़ते ह, द वार के साए ज़दाँ म
ज म पे ये कसका नामे सयह14 लख दे ते ह कोड़ के नशाँ
ह ताक म कसक ज़ंजीर अब आँख लगाए ज़दाँ म
र तारे-ज़माना ले जनक , गेती है गुले-न मा जनका15
हम गाते ह उन आवाज़ से आवाज़ मलाए ज़दाँ म।
1. क़ैदखाने म क़ैद 2. सुबह क हवा 3. कैद सा थयो 4. बेचैन, परेशान 5. पैर क बे ड़याँ तलवार जैसी धारदार ह

6. मं ज़ल के जानकार 7. सुख-शा त का लबादा सौ जगह से फटा आ है और अ हसा का जुनून नंगा हो गया है 8.
यह अ यायी राजनी त, ये ग़रीब लोग, मजबूर आह 9. चुभन 10. यजन के ख क जलन 11. शायद पतझड़ जा
रहा है 12. बहार क खु बू 13. क़ैदखाने क हवा म 14. काला, मन स नाम 15. समय क ग त ज ह अपनाए,
जनके लए नया गीत का गुलद ता हो

43
मुझसे कहा ज ीले-जुनूँ ने1, ये भी वह्ई-ए-इलाही2 है
म हब तो बस म हबे- दल है, बाक़ सब गुमराही3 है
वो जो ए फ़द से-बदर,4 त सीर5 थी वो आदम6 क , मगर
मेरा है अज़ाबे-दर-बदरी7, मेरी नाकदा गुनाही8 है
हफ़-तलब9 सीने म कुचल दो, शत-वफ़ा10 ठहरी है यही
काट के रख दो अपनी ज़बाँ, फ़माने- ज़ ले-इलाही11 है
संग12 तो कोई बढ़ के उठाओ, शाख़े-समर13 कुछ र नह
जसको बुलंद 14 समझे हो, इन हाथ क कोताही है
फर कोई मंज़र15, फर वही ग दश,16 या क जे ऐ कू-एनगार17
मेरे लए ज़ंजीरे-गुल18
ू मेरी आवारा- नगाही19 है
र से इसको चाके-मलामत20 जान के नासेह21 ख़ुश है ब त
ले कन मेरे गरेबाँ पर तो उसके काजल क सयाही है
बहरे-ख़ुदा22 ख़ामोश रहो, बस दे खते जाओ अहले-नज़र
या ल ज़ीदा दम23 ह उसके, या द दा नगाही24 है
द द25 के क़ा बल है तो सही, मज ह तरी म ताना रवी26
गद-हवा है र ते-सफ़र27, र ते का शजर28 हमराही है
1. ेमो माद का फ र ता 2. ई र का स दे श 3. धम ता 4. वग से न का सत 5. ग ती 6. सृ का पहला आदमी
7. यहाँ-वहाँ भटकने के रोग से पी ड़त 8. बेगुनाही 9. दल क बात 10. वफ़ादारी क पू त 11. शासक का आदे श
12. प थर 13. फल क डाली 14. ऊँचाई 15. य 16. भा य 17. ऐ यतमा क गली 18. गले क तौक़ या
ज़ंजीर 19.
क भटकन 20. अपमा नत करके फाड़े गए कपड़े 21. उपदे शक 22. खुदा के वा ते 23. फसलते

कदम 24. तरछ नज़र 25. दे खने 26. म तानी चाल 27. गद-भरी हवा तेरे सफर क साथी है 28. राह का दर त

न म

बा रयाबी*
तेरी इन उलझी ई सांस के ज़ीर-ओ-बम1 के साथ
अपने टू टे साज़ पर इक गीत गा सकता ं म
इन सयह बखरी ई ज फ़ क तारीक 2 म आज
अपने कुछ बीते ए ल हे चुरा सकता ं म
3
हां इ ह लरज़े ए हाथ से और तेरे समेत
रात क दोशीज़गी4 को गुदगुदा सकता ं म
तू कहे तो इन ख़ुनक5 और रस-भरे ह ट से फर
आग-सी इक अपने तन-मन म लगा सकता ं म
और तू तो जानती ही है मेरा हाले-जुनूं6
तू कहे तो तुझ से भी दामन छु ड़ा सकता ं म
ख़ून क ये गम-र तारी, तम ा का सोज़7
च द अ क से8 ये सब शोले बुझा सकता ं म
थरथराते लब पे कुछ दम तोड़ते शकवे लये
लड़खड़ाता फर तेरी मह फ़ल से जा सकता ं म
* दशन पाना 1. उतार-चढ़ाव 2. अंधकार 3. कांपते ए 4. कुमारपन 5. शीतल 6. उ माद क हालत 7. तपन 8.
आंसु से

पछले पहर
मेरे गुज़रे ए ल हात के1 वीरान से,
सस कयां लेने क म मूम2 सदा3 आती है
हाय फर जाने कहां से मेरे अ क क 4 तरफ़,
उसक उलझी ई सांस क हवा आती है
और ये धुंदलाई-सी बेरंग घटा के गेसू5,
इनक लहर म कोई सुबह कोई शाम नह
शब6 के हाथ म ये महताब7 का टू टा आ जाम,
दावते-ज़ी त8 नह मौत का पैग़ाम नह
मेरे ह ठ पे तड़पते ह अभी तक शकवे,
जाने उसक वही नीची-सी नज़र है क नह
मेरी बेमायगी-ए-ग़म9 को तो वो या जाने,
उसके
रज़ पे10 वो टू टा-सा गुहर11 है क नह
ज़द- 12 चाँद भी ख़ामोश है बादल के क़रीब,
फर वो शो‘ला सा गरा आ के इस जंगल के क़रीब
1. ण के 2. ग़मभरी 3. आवाज़ 4. आंसु क 5. केश 6. रात 7. चांद 8. जीवन का आमं ण 9. ग़म क ववशता
10. गाल पर 11. मोती 12. पीले चेहरे वाला

क़ा फ़ले
है चार स त1 ख़ क़ का2 जूमे-बेकरां3 रवां4,
मल से फर उठा धुआं, (सुबह)
तब सुम के5 भेस म ये आंसु के कारवां,
म य खड़ा ं राह म?
फ़ज़ा-ए-बामो-दर-पे6 आतश 7 ग़बार8 छा गया,
नज़र को ग़श-सा आ गया, (दोपहर)
कोई नज़ारो-नातवां9 सड़क पर लड़खड़ा गया,
म य खड़ा ं राह म?
जल वो शम्एँ मुन्इम क 10 अंजुमन11 संवर गई,
सयाही और नखर गई, (शाम)
ये कौन थी जो यूं मेरे क़रीब से गुज़र गई,
म य खड़ा ं राह म?
समट के हर मकां म12 हे-इ तराब13 सो गई
फ़ज़ा14 ख़मोश हो गई,
अभी जो शम 15 जल रही थी तीरगी म16 खो गई,
म य खड़ा ं राह म?
1. ओर 2. जनता का 3. असीम समूह 4. चल रहा है 5. मु कराहट के 6. छत और दरवाज़े के वातावरण पर 7.
अ नमय 8. धू ल 9. अश , नबल 10. धनाढ् य या पूंजीप तय क 11. मह फ़ल 12. मकान म 13. ाकुलता क
आ मा 14. वातावरण 15. द पक 16. अंधेरे म

शे’र और क़त्ए

शे’र और क़त्ए
तेरी च मे-शोख़ को1 या आ, नह होती आज हरीफ़े- दल2
मेरे ज़ो‘मे-इ क़ क 3 ख़ैर हो, ये कसे नज़र से गरा दया
शबे-इ तज़ार क क मकश म न पूछ कैसे सहर4 ई
कभी इक चराग़ जला दया, कभी इक चराग़ बुझा दया
मह-ओ-ख़ुरशीद5 भी साग़र-ब-कफ़ होकर6 उतर आए
ब-व ते-बादानोशी7 जब नचोड़ी आ त मने
वो बादे -अज़-मतलब8 हाय रे शौक़े-जवाब9 अपना
क वो ख़ामोश थे और कतनी आवाज़ सुनी मने
अब सोचते ह लायगे तुझ-सा कहां से हम
उठने को उठ तो आए तेरे आ तां से10 हम
अ क़ म11 रंगो-बू-ए-चमन र तक मले
जस दम असीर12 होके चले गु ल तां से हम
दल क तम ा है म ती म मं ज़ल से भी र नकलते
अपना भी कोई साथी होता हम भी बहकते चलते-चलते
सया हयां शबे-फ़क़त क 13 हम-नफ़स14 मत पूछ
कसी को याद जो क जे तो याद आ न सके
वो आ रहे ह संभल-संभलकर नज़ारा बेख़ुद15 फ़ज़ा16 जवां है
झुक -झुक ह नशीली आंख का- का दौरे-आ मां17 है
छू टा दयारे-यार18 तो अब फ़ े -यार19 य
वो शम्ए-अंजुमन20 भी गई अंजुमन के साथ
चमन म आ तशे-गुल21 फर से भड़काने भी आयगे
ख़ज़ां आई तो अब सहरा से द वाने भी आयगे
अलग बैठे थे फर भी आंख साक़ क पड़ी हम पर

अगर है त गी22 का मल23 तो पैमाने भी आयगे
हट के -ए-यार से24 तज़ईने-आलम25 कर ग
वो नगाह जनको अब तक रायगां26 समझा था म
न मट सकगी ये तनहाइयां मगर ऐ दो त
जो तू भी हो तो तबीयत ज़रा संभल जाए
न ज़ारा-हाए-दहर27 ब त खूब ह ले कन
अपना ल भी सुख़ -ए-शामो-सहर म28 है
कुछ बता तू ही नशेमन का29 पता
म तो ऐ बादे -सबा30 भूल गया
जफ़ा के ज़ पे तुम य संभल के बैठ गये
तु हारी बात नह , बात है ज़माने क
इस तरह से कुछ रात को टू टे ह सतारे
जैसे वो तेरी लग़् ज़शे-पा31 दे ख रहे ह
कस- कसको हाय तेरे तग़ाफुल32 का ँ जवाब
अ सर तो रह गया ँ झुका कर नज़र को म
अ लाह रे वो आलमे- ख़सत33 क दे र तक
तकता रहा ं युंही तेरी रहगुज़र34 को म
ये शौक़े-का मयाब35, ये तुम, ये फ़ज़ा36, ये रात
कह दो तो आज रोक ं बढ़ कर सहर37 को म
वो अगर बात न पूछ तो कर या हम भी
आप ही ठते ह, आप ही मान जाते ह
दले-सादा न समझा, मा सवाय38 पाक-दामानी39
नगाहे-यार कहती है कोई अफ़साना बरस से
हाय वो सा त40 क फ़े-शौक़41 था हर-हर नफ़स42
आह ये आलम43 क अब तेरी तम ा भी नह

हम ही का‘बा, हम ही बुतख़ाना, हम ह कायनात44
हो सके तो ख़ुद को भी एक बार सजदा क जये
बढ़ाई मय45 जो मुह बत से आज साक़ ने
यूं कांपे हाथ क सागर भी हम उठा न सके
तेरे सवा भी कह थी पनाह भूल गए
नकल के हम तेरी मह फ़ल से राह भूल गए
1. चंचल आंख को 2. दल क श ु 3. इ क़ के घमंड क 4. सुबह 5. चांद-सूरज 6. याला हाथ म लेकर 7.
म दरापान के समय 8. अ भ ाय ( ेम) नवेदन के बाद 9. उ र पाने का शौक़ 10. दहलीज़ से 11. आंसु म 12.
क़ैद 13. जुदाई क रात क 14. साथी 15. उ म 16. वातावरण 17. संसार-च 18. ेयसी का घर 19. ेयसी क
च ता 20. मह फ़ल का द पक 21. फूल क अ न (फूल के बीच का भुरभुरा अंश) 22. यास 23. पूण 24. ेयसी के
चेहरे से 25. संसार का ृंगार 26. थ 27. संसार के य 28. सुबह और शाम क ला लमा म 29. घ सले का 30.
भात समीर 31. पैर क लड़खड़ाहट 32. उपे ा 33. जुदाई का समय 34. माग 35. सफल ेम 36. वातावरण 37.
सुबह 38. के सवा 39. प व ता 40. ण 41. ेम को सम पत 42. ास 43. थ त 44.
ा ड 45. म दरा

फ़ मी गीत

गाये जा गीत मलन के
गाये जा गीत मलन के
तू अपनी लगन के
सजन घर जाना है
काहे छलके नैन क गगरी, काहे बरसे जल
तुम बन सूनी साजन क नगरी, परदे सया घर चल
यासे ह द प नयन के
तेरे दशन के
सजन घर जाना है
लुट न जाये जीवन का डेरा, मुझको है ये ग़म
हम अकेले, ये जग लुटेरा, बछु ड़ ना मल के हम
बगड़ नसीब न बन के
ये दन जीवन के
सजन घर जाना है
डोल नयन ीतम के ारे, मलने क है धुन
बालम तेरा तुझको पुकारे, याद आने वाले सुन!
साथी मलगे बचपन के
खलगे फूल मन के
सजन घर जाना है

उठाये जा उनके सतम
उठाये जा उनके सतम और जये जा
युंही मु कराए जा, आंसू पये जा
यही है मुह बत का द तूर ऐ दल
वो ग़म द तुझे तू आएं दये जा
कभी वो नज़र जो समाई थी दल म
उसी इक नज़र का सहारा लये जा
सताये ज़माना सतम ढाये नया
मगर तू कसी क तम ा कये जा
उठाये जा उनके सतम और जये जा

जब नामे मुह बत ले के…
जब नामे-मुह बत ले के
कसी नादान ने दामन फैलाया
पहलू म अजब-सा दद उठा
पलक पे इक आंसू थराया
दल बैठे-बैठे भर आया,
या क हये हम या याद आया
याद आई कसी क महक ई
सांस क हवा ह क -ह क
वो शाम वो रंग के बादल
चुनरी वो मेरी ढलक -ढलक
इक बात ने कतना तड़पाया,
या क हये हम या याद आया
नया से न रख उ मीदे -वफ़ा,
जब यूँही कसी ने समझाया
कुछ और बढ़ सीने क जलन
कुछ और बढ़ा ग़म का साया
रह-रह के हम रोना आया,
या क हये हम या याद आया

ग़म तो बना मेरे लए
ग़म तो बना मेरे लए
ग़म न स ं तो या क ं ?
समझा न कोई ख मेरा
चुप न र ं तो या क ं
ऐसी लगी है ग़म क आग
हाय रे मेरी बेबसी
कह ं तो जल उठे ज़बां
और न क ं तो या क ं
दद है दा तां मेरी,

ख़ामुशी है ज़बां मेरी
आंख से बनके अ क़े-ग़म1,
म न ब ं तो या क ं
ग़म तो बना मेरे लए,
ग़म न स ं तो या क ं
1. ग़म के आंसू

हमारे बाद अब मह फ़ल म
हमारे बाद अब मह फ़ल म अफ़साने बयां ह गे
बहार हमको ढूँ ढगी न जाने हम कहां ह गे
इसी अंदाज़ से झूमेगा मौसम गाएगी नया
मुह बत फर हस होगी, नज़ारे फर जवां ह गे
न हम ह गे न तुम होगे न दल होगा मगर फर भी
हज़ार मं ज़ल ह गी हज़ार कारवां ह गे

ग़म दये मु त कल
ग़म दये मु त क़ल1,
कतना नाजक है दल—ये न जाना
हाय हाय ये ज़ा लम ज़माना
दे उठे दाग़ जो,

उनसे तू माहे-नौ2,—कह सुनाना
हाय हाय ये ज़ा लम ज़माना
दल के हाथ से दामन छु ड़ाकर
ग़म क नज़र से नज़र बचाकर
उठके वो चल दये,
कहते ही रह गये—हम फ़साना
हाय हाय ये ज़ा लम ज़माना
कोई मेरी ये दाद3 दे खे
ये मुह बत क बेदाद4 दे खे
फुँक रहा है जगर,
पड़ रहा है मगर—मु कुराना
हाय हाय ये ज़ा लम ज़माना
1. थायी 2. नये चांद 3. हालत 4. अ याचार

ये माना दल जसे ढूँ ढे
ये माना दल जसे ढूँ ढे बड़ी मु कल से मलता है
मगर जो ठोकर खाए वही मं ज़ल से मलता है
चलो बैठे हो या बेकार क़ मत के दोराहे पर
वही र ता है सीधा जो तु हारे दल से मलता है
अगर मन कोई तूफ़ां उठाये भी तो या परवा
सफ़ ना1 र दकर तूफ़ान को सा हल से मलता है
ये माना दल जसे ढूँ डे बड़ी मु कल से मलता है!
1. नाव

ख़ामोश है ज़माना
ख़ामोश है ज़माना, चुपचाप ह सतारे
आराम से है नया, बेकल ह दल के मारे
ऐसे म कोई आहट इस तरह आ रही है
जस तरह चल रहा हो, मन म कोई हमारे
या दल धड़क रहा है, इक आस के सहारे
द पक बग़ैर कैसे, परवाने जल रहे ह
कोई नह चलाता, और तीर चल रहे ह
भटक ई जवानी मं ज़ल को ढूँ ढती है
माँझी बगैर नैया सा हल को ढूँ ढती है
तड़पेगा कोई कब तक बेआस बेसहारे
ख़ामोश है ज़माना, चुपचाप ह सतारे

सीने म सुलगते ह अरमाँ
सीने म सुलगते ह अरमाँ, आँख म उदासी छाई है
ये आज तेरी नया से हम तकद र कहाँ ले आई है
कुछ आँख म आँसू ह, जो मेरे गम के साथी ह
अब दल है न दल के अरमाँ ह, बस म ँ, मेरी तनहाई है
ना मुझसे शकायत हम को, ना कोई शकायत नया से
दो-चार क़दम जब मं ज़ल थी, क मत ने ठोकर खाई है
इक ऐसी आग लगी दल म, जीने भी न दे , मरने भी न दे
चुप ँ तो कलेजा जलता है, बोलूँ तो तरी वाई है
सीने म सुलगते ह अरमाँ, आँख म उदासी छाई है
ये आज तेरी नया से हम तकद र कहाँ ले आई है

ये रात ये फ़ज़ाएँ
ये रात ये फ़ज़ाएँ फर आएँ या न आएँ
आओ, शमा बुझा के, हम आज दल जलाएँ
ये नम-सी ख़ामोशी ये रेशमी अँधेरा
कहता है, ज फ़ खोलो, क जायेगा सवेरा
जुगनू-से मल के चमक, तार -से झल मलाएँ
आओ, शमा बुझा के, हम आज दल जलाएँ
ह ठ के फूल फूले, शोले उठे बदन से
म ती म आज आओ, लहराएँ रंग बन के
चेहर क रोशनी से, मह फ़ल को जगमगाएँ
आओ, शमा बुझा के, हम आज दल जलाएँ
भीगी ई हवा है, अब रात जल रही है
ऐसे म दो दल क , इक शमा जल रही है
ये यार का उजाला, मल के अमर बनाएँ
आओ, शमा बुझा के, हम आज दल जलाएँ

हमने जफ़ा न सीखी
हमने जफ़ा न सीखी, उनको वफ़ा न आई
प थर से दल लगाया, और दल पे चोट खाई
अपने ही दल के हाथ बरबाद हो गए हम
कससे कर शकायत, अब कसक द हाई!
नया बनाने वाले, म तुझसे पूछता ँ
या यार का जहाँ म, बदला है बेवफ़ाई
हमने जफ़ा न सीखी, उनको वफ़ा न आई
प थर से दल लगाया, और दल पे चोट खाई…

पहले सौ बार इधर
पहले सौ बार इधर और उधर दे खा है
तब कह जाके तुझे एक नज़र दे खा है
हम पे हँसती है जो नया, क उसे ही नह
हमने इक शोख़ को, ऐ द दा-ए-तर, दे खा है
आज उस एक नज़र पर मुझे मर जाने दो
उसने, लोगो, बड़ी मु कल से इधर दे खा है
या ग़लत है जो म द वाना आ, सच कहना
मेरे महबूब को तुमने भी अगर दे खा है!…

हम कर कोई सूरत
हम कर कोई सूरत उ ह बुलाने क
सुना है, उनको तो आदत है भूल जाने क
जफ़ा के नाम पे तुम य संभल के बैठ गये
तु हारी बात नह , बात है ज़माने क
जो हम तक आई, तो कतरा के इस तरह से न जा
नगाहे-नाज़, ये बात ह दल खाने क …

रात ने या- या वाब दखाए
रात ने या- या वाब दखाए
रंग भरे सौ जाल बछाए
आँख खुल तो सपने टू टे
रह गये ग़म के काले साये
हमने तो चाहा भूल ही जाएँ
वो अफ़साना य दोहराएँ
दल रह-रह के याद दलाए
रात ने या- या वाब दखाए
दल म दल का दद छपाए
चलो, जहाँ क़ मत ले जाए…

मोह बत से दे खा, ख़फ़ा हो गए
मोह बत से दे खा ख़फ़ा हो गये
हस आजकल के खुदा हो गये
अदा म थी सादगी अब से पहले
कहाँ रंग थे ये सुनहरे- पहले
नज़र मलते ही या से या हो गये
हस आजकल के खुदा हो गये
कसी मोड़ से बन के सूरज नकलना
कह धूप म चाँदनी बन के चलना
जधर दे खो, जलवानुमा हो गये
हस आजकल के खुदा हो गये
यहाँ तो लगा दल पे इक ज़ म गहरा
वहाँ सफ उनका ये अ दाज़ ठहरा
ख़ता करके भी बेख़ता हो गये
हस आजकल के ख़ुदा हो गये

प थर के सनम
प थर के सनम! तुझे हमने मोह बत का ख़ुदा माना
बड़ी भूल ई, अरे हमने, ये या समझा, ये या जाना
चेहरा तेरा दल म लए, चलते रहे अंगार पर
तू हो कह , सजदे कए, हमने तेरे खसार पर
सोचा था ये, बढ़ जाएँगी, त हाइयाँ जब रात क
र ता हम दखलाएगी शम्ए-वफ़ा इन आँख क
ठोकर लगी तब पहचाना…
प थर के सनम! तुझे हमने मोह बत का खुदा माना!
ऐ काश, के होती ख़बर, तूने कसे ठु कराया है
शीशा नह , साग़र नह , म दर-सा इक दल ढाया है—
ये आ माँ है वीराना!…
प थर के सनम! तुझे हमने मोह बत का ख़ुदा माना!…

साथी न कोई मं ज़ल
साथी न कोई मं ज़ल
द या है न कोई मह फ़ल
चला मुझे ले के, ऐ दल, अकेला कहाँ?…
हमदम मले कोई, ऐसे नसीब नह
बेदद है ज़म , -ऊ-ऊ-र आ माँ
चला मुझे ले के, ऐ दल, अकेला कहाँ?…
ग लयाँ ह अपने दे श क , फर भी ह जैसे अजनबी
कसको कहे कोई अपना यहाँ?…
प थर के आ ा मले, प थर के दे वता मले
शीशे का दल लए, जाऊं कहाँ
साथी न कोई मं ज़ल
द या है न कोई मह फ़ल
चला मुझे ले के, ऐ दल, अकेला कहाँ?…

हम जी लगे बन तु हारे
—हम जी लगे बन तु हारे —तुम फर कभी ये ना कहना
मेरी जान, य क तुम मेरी ज़ दगी हो!
—तुम जाओ कह भी यारे, मेरे दल म रहना, सजना
क तुम मेरी ज़ दगी हो!
आत बहार न गुल कभी खलते
जो तुम ज़ दगी म हमसे न मलते
यूँ मेरे दल म तुम आये हो मचल के
उलझा दे आँचल हवा जैसे चल के
—लट हल रही ह कुछ ऐसे तु हारी
अभी है तस ली, अभी बेक़रारी
पास आओ ये नाजक घड़ी है
ऐसे मेरे दल के पीछे पड़ी है
— नया है क़ा तल, पकड़ लो ये बाँह
रोके खड़ी ह मुह बत क राह
—जो तेरी धुन म नकल पड़े घर से
वो या कगे ज़माने के डर से
—यहाँ इ क़ को क़ ल होते ही दे खा
सदा न को छु प के रोते ही दे खा
—हम तुमने चाहा, तो कैसे मटगे
नज़र डाल दोगी, तो हम जी उठगे
मर जाएँगे ग़म के मारे —तुम फर कभी ये ना कहना
मेरी जान, य क तुम मेरी ज़ दगी हो!

वो तीर दल पे चला
वो तीर दल पे चला, जो तेरी कमान म है
कसी क आँख म जा , तेरी जबान म है
नज़र म आते ही तुम तो जगर म समाये सनम
जगर म आते ही दल क तरफ बढ़ाये क़दम
कह ठहरती नह जो, उसी अदा क क़सम
ज़म पे है वही बजली, जो आसमान म है।…
ये माना रंग मोह बत के हो चले गहरे
मगर लब पे ह ताले, दल पे ह पहरे
जो बेक़रार हो दल से वो कह या ठहरे!
अभी तो न मोह बत के इ तहान म है।…
तु हारी आँख के आगे ये दन ये रात कहाँ
गुल क शाख़ कहाँ, एक सनम का हाथ कहाँ
हसीन दे खे हज़ार , मगर ये बात कहाँ!
ये बात और है जो तेरी आनबान म है
कसी क आँख म जा , तेरी जबान म है।…

अब या मसाल ँ म
अब या मसाल ँ म तु हारे शबाब क
इ सान बन गई है करन माहताब क
चेहरे म घुल गया है हस चाँदनी का नूर
आँख म चमन क जवान रात का सु र
गदन है एक झुक ई डाली गुलाब क …
गेसू खुले तो शाम के, दल से धुआँ उठे
छू ले जो क़दम झुक के, तो न फर आ माँ उठे
सौ बार झल मलाए शमा आफ़ताब क …
द वारो-दर का रंग ये आँचल ये पैरहन
घर का मेरे चराग़ है, टू टा-सा ये बदन
त वीर हो तु ह मेरे ज त के वाब क

दद क ऐ रात गुज़र जा
दद क ऐ रात गुज़र जा
ऐ दले-बेताब इधर जा
मेरे अरमान क करन, कस रोज़ मुँह दखलायेगी
जस धुन म है ये कारवां, कस दन वो मं ज़ल आयेगी
कोई कहता है ठहर जा
ऐ दले-बेताब इधर जा
बहक -बहक ठं डी हवा तार पे आवारा घटा
चांद से पदा-सा हटा, यूँ जैसे कोई आ गया
ऐ मेरी नया ठहर जा
ऐ दले-बेताब इधर जा
आ मेरे महबूब आ इक गीत गाने के लए
हसरत-ओ-अरमान क नया पे छाने के लए
दल मेरा आबाद कर जा
ऐ दले-बेताब इधर जा

तू कहे अगर जीवन भर म
तू कहे अगर जीवन-भर म गीत सुनाता जाऊं
मन-बीन बजाता जाऊं
और आग म अपने दल क हर दल म लगाता जाऊं
ख-दद मटाता जाऊं
म साज़ ं तू सरगम है दे ती जा सहारे मुझको
आवाज़ म तेरी हरदम आवाज़ मलाता जाऊं
आकाश पे छाता जाऊं
इन बोल म तू ही तू है
म समझूं या तू जाने
इनम है कहानी मेरी
इनम ह तेरे अफ़साने
तू साज़ उठा उ फ़त का
म झूम के गाता जाऊं
सपन को जगाता जाऊं
तू कहे अगर जीवन-भर म गीत सुनाता जाऊं

ठं डी हवा काली घटा
ठं डी हवा काली घटा आ ही गई झूम के
यार लए डोले हँसी नाचे जया घूम के
बैठ थी चुपचाप युंही, दल क कली चुनके म
दल ने ये या बात कही रह न सक सुनके म
म जो चली दल ने कहा और ज़रा झूम के
ठं डी हवा काली घटा आ ही गई झूम के
आज तो म अपनी छ ब दे खकर
जाने या सोच रही थी क हँसी आ गई
लौट गई जफ़ फ़ मेरी ह ट मेरा चूम के
ठं डी हवा काली घटा आ ही गई झूम के
दल का हर इक तार हला, छड़ने लगी रागनी
कजरा भरे नैन लये, बनके चलूँ कामनी
कह दे कोई आज घटा बरसे ज़रा झूम के
ठं डी हवा काली घटा आ ही गई झूम के

जवानी के दामन को
जवानी के दामन को रंग बना ले
उठा ले मुह बत क तुहमत1 उठा ले
तेरे ख़ पे2 आएगी रंगत सहर क 3
हंसा दे गी क लय को शोख़ी नज़र क
ये नज़र कसी से मलाकर झुका ले
उठा ले मुह बत क तुहमत उठा ले
जवानी के दामन को रंग बना ले
ये बदम त रात का गहवारा4 ज फ़
ये जोशे-जवानी ये आवारा ज फ़
इन आवारा ज फ़ क रात बसा ले
उठा ले मुह बत क तुहमत उठा ले
नकलकर उलझना, उलझकर नकलना
है इ सां क ज़मत5 तो कांट म चलना
ये या है जो गुल से भी दामन बचा ले
उठा ले मुह बत क तुहमत उठा ले
ये रात तुझे गुदगुदायगी ले कन
ये आंख तेरी मु करायगी ले कन
अगर ये ख़ लश6 अपने दल म बसा ले
उठा ले मुह बत क तुहमत उठा ले
बयाबां7 भी है गु ल तां दल के हाथ
ये नया है नया यहां दल के हाथ
ब त है अगर दो घड़ी मु करा ले

उठा ले मुह बत क तुहमत उठा ले
1. आरोप 2. चेहरे पर 3. सुबह क 4. पालना 5. महानता 6. चुभन 7. उजाड़

दो-गाना
लड़का

:

लड़क

:

लड़का

:

लड़क

:

लड़का
लड़क
लड़का

:
:
:

लड़क

:

लड़का
लड़क
लड़का

:
:
:

लड़क

:

दोन

:

उधर तुम हस हो इधर दल जवां है
ये रंगीन रात क इक दा तां है
ये कैसा है न मा ये या दा तां है
बता ऐ मुह बत मेरा दल कहां है
मेरे घर म आई ई है बहार
क़यामत है फर भी क ं इ तज़ार
मुह बत कुछ ऐसी सदा दे रही है
फ़ज़ा जैसे अंगड़ाइयां ले रही है
जधर दे खती ं नज़ारा जवां है
उधर तुम हस हो इधर दल जवां है
ये कैसा है न मा ये या दा तां है
सुलगती ह तार क परछाइयां
बुरी ह मुह बत क शहनाइयां
महकने लगा मेरी ज फ़ म कोई
लगी जागने धड़कन सोई सोई
मेरी हर नज़र आज दल क ज़बां है
उधर तुम हस हो इधर दल जवां है
ये कैसा है न मा ये या दा तां है
तरसता ं म ऐसे दलदार को
जो दल म बसा ले मेरे यार को
तेरे वाब ह मेरी रात पे छाए
मेरे दल पे ह तेरी पलक के साए
क मेरे लब पे तेरी दा तां है
उधर तुम हस हो इधर दल जवां है
ये कैसा है न मा ये या दा तां है

पग ठु मक चलत बल खाये
पग ठु मक चलत बल खाये
हाए सैयां कैसे धा ं धीर
पायल बाजे न, कोई जागे न, हाए
हाए सैयां कैसे धा ं धीर
पागल सजनी अपने सजन क
चल नह पावे राह मलन क
कांटा चुभ-चुभ जाए
हाए सैयां कैसे धा ं धीर
खली चांदनी जले साजनी, हाए
हाए सैयां कैसे धा ं धीर
छु प के मलन चली तुम से जो छ लया
दे ख के जल गई काली कोय लया
बैरन शोर मचाए
हाए सैयां कैसे धा ं धीर
कोई जाने न, बैरन माने न, हाए
हाए सैयां कैसे धा ं धीर
परबत ऊपर पया तोरी नगरी
दे खत छलक नैन क गगरी
पग धरते फसलाए
हाए सैयां कैसे धा ं धीर
लये गागरी फ ं बावरी, हाए
हाए सैयां कैसे धा ं धीर

ऐ लो म हारी पया
ऐ लो म हारी पया, ई तेरी जीत रे
काहे का झगड़ा बालम नई-नई ीत रे
ऐ लो म हारी पया
नये-नये दो नैन मले ह नई मुलाक़ात है
मलते ही तुम ठ गये जी, ये भी कोई बात है
जाओ जी मु फ कया तू ही मेरा मीत रे
ऐ लो म हारी पया
ई तेरी म संग चलो जी बैयां मेरी थाम के
बंधी बालम क़ मत क डोरी संग तेरे नाम के
लड़ते ही लड़ते मौसम जाए नह बीत रे
ऐ लो म हारी पया

कोई आया धड़कन कहती है
कोई आया धड़कन कहती है
रह-रह के पलक क ये गरती-उठती चलमन कहती है
कोई आया……
होने लग कसी क आहट क गुलका रयाँ
परवाना बन के उड़ दल क चनगा रयाँ
झूम गया झल मलाता दया
कोई आया……
चाँद हँसा ले के दरपन मेरे सामने
घबरा के म लट उलझी लगी थामने
छे ड़ गई मुझे चंचल हवा
कोई आया……
आ ही गया मीठ -मीठ -सी उलझन लये
खो ही गई म तो शमाई चतवन लये
गोरे बदन से पसीना बहा
कोई आया……

चली गोरी पी से मलन
चली गोरी पी से मलन को चली
नैना बाव रया मन म सांव रया
चली गोरी पी से मलन को चली
डार के कजरा लट बखरा के
ढलते दन को रात बना के
कंगना खनकाती ब दया चमकाती
छम-छम डोले सजना क गली
चली गोरी पी से मलन को चली
कोमल तन है सौ बल खाया
हो गई बैरन अपनी ही छाया
घूंघट खोले न, मुख से बोले न
राह चलत संभली संभली

चली गोरी पी से मलन को चली

झूम झूम के नाचो आज
झूम-झूम के नाचो आज गाओ ख़ुशी के गीत
आज कसी क हार ई है आज कसी क जीत
गाओ खुशी के गीत
कोई कसी क आंख का तारा, जीवन-साथी साजन यारा
और कोई तक़द र का मारा, ढूं ढ़ रहा है दल का सहारा
कसी को दल का दद मला है, कसी को मन का मीत
गाओ खुशी के गीत
दे खो तो कतना ख़ुश है ज़माना
दल म उमंग मन म तराना
दल जो खे आंसू न बहाना
ये तो यहां का ढं ग पुराना
इसको मटानाइस
उसको
नगरीबनाना
क रीत
गाओ ख़ुशी के गीत

क हयो रोय

खयारे

क हयो रोय खयारे
जा रे पंछ तू जा रे
कागा दे स हमारे—उड़ जा रे!
एक न क हयो मां रानी से
रोयेगी वो मेरी गु ड़य को दे ख के
एक न क हयो बाबुल जी से
रोयगे पगड़ी को मुंह से लपेट के
और सबसे क हयो तू यारे
जा रे पंछ तू जा रे, कागा दे स हमारे—उड़ जा रे!
एक न क हयो बहना मेरी से
हाथ क रोट गरा दे गी रो के
एक न क हयो भाभी मेरी से
मैके जाके हंसेगी वो मो पे
और सब से क हयो तू यारे
जा रे पंछ तू जा रे, कागा दे स हमारे—उड़ जा रे!
क हयो रे ख मेरा भ या से जाके
आएगा नीला घोड़ा उड़ा के
उतरेगा मेरे ारे
जा रे पंछ तू जा रे, कागा दे स हमारे—उड़ जा रे!
क हयो रोय खयारे।

मेरी लाडली री बनी
मेरी लाडली री बनी है तार क तू रानी
नील गगन पर बादल डोले, डोले हर इक तारा
चांद के अ दर बु ढ़या डोले ठु मुक-ठु मुक दर- ारा
कमला गाए बमला गाए, गाए कुनबा सारा
घूँघट काढ़ के गु ड़या गाए, झूले गु ा यारा
बटलर नाचे, बैरा नाचे, नाचे मोट आया
काले साहब का टोपा नाचे, गोरी मेम का साया
मेरी लाडली री बनी है तार क तू
रानी

चंदा रे, चंदा रे!
चंदा रे, चंदा रे! छु पे रहना
सोये मेरी मैना, लेके मेरी न दया रे
फूल चमेली धीरे महको, झ का न लग जाए
नाजक डाली कजरा वाली, सोये और मु काये
लेके मेरी न दया रे
हाथ कह है पाँव कह है, लागे यारी- यारी
ममता गाए पवन झुलाये, झूले राजकुमारी
लेके मेरी न दया रे
भोर भये कल फूट करन भँवरा गुन-गुन बोले
न ह च ड़या मेरी गु ड़या, कल फर अँ खयाँ खोले
चंदा रे, चंदा रे! छु पे रहना
सोये मेरी मैना, लेके मेरी न दया रे

न हा मोरा डोले मोरी अँगनैयाँ
न हा मोरा डोले मोरी अँगनैयाँ
र से दे खूँ और मु काऊँ
मूँद के अँ खयाँ पास बुलाऊँ
नटखट हँस के चले पैयाँ-पैयाँ
न हा मोरा डोले मोरी अँगनैयाँ
कोमल ऐसा मोरा अलबेला
आँख पड़े तो रंग हो मैला
डारे फ ँ म तो अँचरा क छै याँ
न हा मोरा डोले मोरी अँगनैयाँ
मक- मक चले मारे कलकारी
छोट -छोट दतली लागे यारी- यारी
लागे नज़र नह ले लूँ बलैयाँ
न हा मोरा डोले मोरी अँगनैयाँ

हम ह राही यार के
हम ह राही यार के, हम से कुछ न बो लये
जो भी यार से मला, हम उसी के हो लये
दद भी हम क़बूल, चैन भी हम क़बूल
हम ने हर तरह के फूल हार म परो लये
धूप थी नसीब म धूप म लया है दम
चाँदनी मली तो हम चाँदनी म सो लये
दल पे आसरा कये हम तो बस युँही जये
इक क़दम पे हँस लये इक क़दम पे रो लये
राह म पड़े ह हम कब से आपक क़सम
दे खये तो कम से कम बो लये न बो लये
हम ह राही यार के

बेकस क तबाही के
बेकस क तबाही के सामान हज़ार ह
द पक तो अकेला है, तूफ़ान हज़ार ह
मजबूर कया हम को लाचार कया हम को
ख दद जलन आह या- या न दया हमको
भगवान तेरे हम पर एहसान हज़ार ह
सूरत के तो इ साँ ह मन ह मुह बत के
सब चोर ह डाकू ह माँ-बहन क इ ज़त के
कहने को ज़माने म इ सान हज़ार ह
हमदद नह मलता, फर आए जहाँ भर म
मोती क तरह यासे रोते ह समु दर म
अपना ही नह कोई, अनजान हज़ार ह
द पक तो अकेला है, तूफ़ान हज़ार ह

लकड़हार का कोरस
कोरस

:

एक पु ष
याँ

:
:

एक पु ष
याँ
पु ष
याँ

:
:
:
:

कोरस

:

याँ

:

एक पु ष
याँ
पु ष
याँ

:
:
:
:

कोरस

:

तन जले मन जलता रहे
हाँ, ख़ून-पसीना ढलता रहे
जीवन का आरा चलता रहे
ये है ज़ दगी यारे! काँट म दन गुज़ारे, फर भी न हारे
चल घर को सजन, मोरा नाजक बदन, दे खो म तो
मचल गई रे म खड़ी दोपह रया म जल गई रे!
गोरी तुझ को सँभलना होगा
हाए-हाए रे
मेरे संग संग चलना होगा
हाए-हाए रे
जाने कब तक जलना होगा! हाए-हाए रे
तन जले मन जलता रहे
हाँ ख़ून-पसीना ढलता रहे
जीवन का आरा चलता रहे
सुन सैयाँ कहानी, कट बन म जवानी, लट सुलझी
बखर गई रे। उम रया सारी युंही गुज़र गई रे
गोरी तुझ को संभलना होगा
हाए-हाए रे
मेरे संग-संग चलना होगा
हाए-हाए रे
जाने कब तक जलना होगा! हाए-हाए रे
तन जले, मन जलता रहे
हाँ ख़ून-पसीना ढलता रहे
जीवन का आरा चलता रहे

कह ताक़त के पंजे म
कह ताक़त के पंजे म कलाई बदनसीब क
कह दौलत क बाह म ब -बेट ग़रीब क
कोई ज़ा लम है कोई बेसहारा दे खते जाओ
जहाँ वालो! इसे कहते ह नया दे खते जाओ
ये नया दे खते जाओ!
भरे ह ग़म के आँसू आँख म और बह नह सकते
तु हारे सामने लुटते ह हम और कह नह सकते
न दे खा हो तो आओ ये तमाशा दे खते जाओ
मदद माँगी हमारी बेबसी ने धरती माता क
हाई द हमारी बेकसी ने जग के दाता क
मगर सोया आ है जग का दाता दे खते जाओ
जहाँ वालो! इसे कहते ह

नया दे खते जाओ